रहस्यमयी गाँव जहाँ महीनों सोते है लोग

रहस्यमयी गाँव जहाँ महीनों सोते है लोग 

कुदरत के करिश्मे के आगे इस दुनिया में कुछ भी नहीं होता, हम सब ये तो जानते ही है| पर हम आज आपको एक ऐसी जगह के बारे में बताने जा रहे है जहाँ कुदरत ने अपना करिश्मा दिखाया था| 


कजाखस्तान गाँव 


अप्रैल २०१०, जी हाँ इसी दिन शरुवात हुयी थी इस रहस्यमयी घटना की, जब कजाखस्तान के कलाची गांव के कुछ लोग चलते चलते सो गये थे| हैरान हो गये न आप, जी हाँ दोस्तों चलते चलते क्या, कहीं भी कैसी भी हालत में हो वही सो गये थे| ६४० लोगों की आबादी वाला ये गाँव उस वक़्त एक ऐसी बीमारी से अनजान था जो वो सोच भी नहीं सकते थे| इस रहस्यमयी नींद की बीमारी से पीड़ित लोग या तो कुछ देर में जाग जाया करते या तो महीनों सो जाया करते थे| जब भी उनकी नींद खुलती तो उन्हें कुछ याद नहीं रहता की वो कैसे, कब और क्यों सो गये थे| यह रहस्यमयी बीमारी बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गो हर किसी में फ़ैल रही थी, यही नहीं इस बीमारी से जानवर भी नहीं बच पायें| जब वहां की सरकार को इस बात का पता चला तो कई वैज्ञानिकों की कतार लग गयी इस रहस्य को जानने के लिये| कुछ ने कहा की यह खाने और पीने के पदार्थो की वजह से हो सकता है और कुछ ने कहा की हवा के दूषित होने की वजह से हो सकता है| पर वैज्ञानिक जांच में सबकुछ सामान्य मिला|

कजाखस्तान के इस छोटे से गाँव के करीब एक बंद यूरेनियम की खदान है, हो सकता है की वहां से आ रहे रेडिएशन की वजह से ऐसा हो रहा होगा| जांच करने पर गांव में रेडिएशन की मात्रा भी खास नहीं थी, जिसे वैज्ञानिकों ने भी मान लिया था| ४-५ सालों से कुछ अंतराल में सो रहे इन गाँववालों को न ठीक कर पाया कोई और नाही इसके कारण का कोई पता लगा पाया, जो आज तक एक रहस्य ही बनकर रह गया है|

टिप्पणियाँ