टूट गया ये रिकॉर्ड जो बनाया था नाक से, है भारत के नाम

टूट गया ये रिकॉर्ड जो बनाया था नाक से, है भारत के नाम   

दोस्तों, हमने हाथों से और पैरों से टाइपिंग करना तो सुना है, पर कोई अपनी नाक से टाइपिंग कर सकता है यह शायद बहोत कम लोग जानते होंगे| 

खुर्शीद खान 

२००८ में दुबई में रहने वाली भारतीय लड़की नीता ने नाक से १०३ शब्द की टाइपिंग १ मिनिट ३३ सेकंड का विश्व रिकॉर्ड बनाया था| उसी १०३ शब्दों को टाइप करने के रिकॉर्ड को २०१४ में भारत के हैदराबाद में रहने वाले खुर्शीद खान ने ४७.४४ सेकंड में करके तोडा था|
आपको यह भी बता दें कि खुर्शीद खान वही शख्स है जिसने २०१२ में महज ३.४३ सेकंड में इंग्लिश के सारे अल्फाबेट हाथ से टाइप करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था| जो आज तक खुर्शीद के ही नाम है| इसके लिए खुर्शीद ने ६ महीने तक लगातार रोज ८ घंटे की प्रैक्टिस किया करता था| 

विनोद कुमार चौधरी

२०१५ में खुर्शीद खान के ४७.४४ सेकंड के रिकॉर्ड को महज ४६.३० सेकंड में १०३ शब्दों को टाइप कर दिल्ली के रहने वाले विनोद कुमार चौधरी ने तोडा| विनोद कुमार के नाम अपनी आँखों पे पट्टी बांधकर हाथों से टाइप करने का रिकॉर्ड भी है जो उन्होंने सिर्फ ६.७१ सेकंड में करके बनाया था| 

देविंदर सिंह 

दोस्तों, यह वह शख्स है जिसने २०१७ में सारे रिकार्ड्स को तोड़ते हुए वही १०३ शब्दों को अपनी नाक से सिर्फ ४०.१९ सेकंड्स में टाइप किया और अपना नाम 'गिनिस बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड' में अपना नाम दर्ज किया है| 
दोस्तों, सिर्फ ये ही नहीं, ऐसे अद्भुद रिकॉर्ड हमारे भारत में और भी है| जिसके बारे में हम शायद कम ही जानते होंगे| 

टिप्पणियाँ