७ साल की उम्र में यह बच्चा बना सर्जन

दोस्तों, कहावत है कि प्रतिभा उम्र की मोहताज़ नहीं होती। इसका जीता जागता सबूत है, 'अकृत प्राण जसवाल'। महज सात साल की उम्र में दुनिया का कोई भी बच्चा ठीक से कैची छुरी पकड़ना सीखता है। पर अकृत उसी कैची छुरी से किसी का ऑपरेशन कर सकता है, ऐसा किसी ने नहीं सोचा होगा। जी हाँ दोस्तों, ये है भारत का सबसे कम उम्र का सर्जन, जिसने पूरी दुनिया से वाहवाही बटोर चूका है। 
omg-facts-seven-years-boy-become-surgeon
२३ अप्रैल १९९३ को हिमाचल के नूरपुर में जन्मे इस असाधारण बच्चे का जन्म हुआ। सिर्फ ५ साल की उम्र में शेक्सपीयर की किताबें पढ़ने वाले इस बच्चे के माँ और पिता ने उसी समय समझ लिया था कि उनका बच्चा बाकी बच्चों से अलग है। मेडिकल क्षेत्र में हड़कंप सा मच गया जब अपनी उम्र से सिर्फ १ साल बड़ी एक लड़की की कटी हुई उंगली का सफल ऑपरेशन अकृत ने किया था। चूँकि उस लड़की के घर वाले अपनी बेटी का इलाज किसी डॉक्टर से करने की हैसियत नहीं रखते थे। 
omg-facts-seven-years-boy-become-surgeon
यह तो कुछ भी नहीं। अकृत १२ साल की उम्र में भारत के मेडिकल स्कूल में प्रवेश पाने वाले सबसे कम उम्र के छात्र बने। उनका आईक्यू १४६ था, जो की उनके उम्र के किसी भी बच्चे से कई ज्यादा था। दुनिया के सात सबसे होनहार बच्चों की सूची में शामिल अकृत ने केमेस्ट्री में मास्टर्स डिग्री भी हासिल की है। इनकी छोटी सी उम्र में इस बड़ी उपलब्धि के कारण अकृत को लन्दन के इम्पीरियल कॉलेज में कैंसर जैसी बीमारी पर रिसर्च करने के लिए भी बुलाया गया था। 
omg-facts-seven-years-boy-become-surgeon
आज अकृत की उम्र २४ साल है, फ़िलहाल कानपूर में आईआईटी से बायोइंजिनीरिंग की पढाई कर रहे है और भारत का नाम ऊँचा करने की और अपना कदम बढ़ा रहे है। 
omg-facts-seven-years-boy-become-surgeon
ऐसे बच्चे जो देश के लाखों करोड़ों बच्चों के लिए एक प्रेरणा है और अपने जीवन और इस दुनिया में कुछ कर गुजरने का हौसला रखते है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां