कछुए की कवच वाला अदभुद बच्चा

कछुए की कवच वाला अदभुद बच्चा 

दोस्तों, इस दुनिया में हमने कई अजीबोगरीब लोगों को देखा होगा, पर ऐसा भी कुछ होगा ये शायद हमने नहीं देखा होगा| 
डिडियर मोंटाल्वो
मानवी कछुए के नाम से बुलाने जाने वाले डिडियर मोंटाल्वो नामक इस बच्चे की उम्र महज ८ साल की थी, जब वह अपने कोलम्बिया के घर से ब्रिटेन के लिए हवाई जहाज में सफर कर रहा था| पर इस बार वह अपनी ही तरह इस बीमारी से ग्रस्त बच्चों से मिलने जा रहा था| 


तीन साल पहले डिडियर ने अपने शरीर पर स्थित इस कछुए कवच की वजह से अपने दोस्तों द्वारा चिड़ाये जाने पर अपनी माँ से एक ही सवाल पूछ करता था, 'माँ, यह मेरे ही शरीर पर क्यों?' तब उसकी माँ उसके इस सवाल का कोई जवाब नहीं दे पाती थी| डिडियर के शरीर पर स्थित यह एक प्रकार का मस्सा था जो उसके शरीर के वजन का २०% था| भला हो उस बेहतरीन डॉक्टर का जिसका नाम नील बलस्टरोड है| इन्होंने डिडियर का ऑपरेशन किया और इस ऑपरेशन के लिए ब्रिटेन में स्थित 'कैर्रिंग मैटर' नामक संस्था ने इसमें मदद की| जिसकी वजह से कई छोटे-छोटे ऑपरेशन के बाद, बिना किसी खर्च के डिडियर के शरीर का यह मस्सा निकाला गया| अपने अतीत में कछुए कहलाने वाला यह बच्चा एक आम बच्चे के की तरह अपना जीवन व्यतीत कर रहा है|

टिप्पणियाँ