७८ सालों से कुछ खाया-पीया नहीं, फिर भी जिन्दा है ये इंसान

७८ सालों से कुछ खाया-पीया नहीं, फिर भी जिन्दा है ये इंसान

दोस्तों, हम उपवास रखते है तब भी पूरे दिन कुछ न कुछ उपवास की चीजें खा लेते है, पर ये कैसे संभव है कि कोई इंसान पिछले ७८ सालों से बिना कुछ खाये पीये जिन्दा रह सकता है| आज हम आपको उसी इंसान के बारे में बताने जा रहे है|
prahlad jani

प्रह्लाद जानी (माताजी)

८६ वर्षीय प्रह्लाद जानी उर्फ़ माताजी का जन्म गुजरात के मेहसाणा जिले में हुआ था| १२ साल के उम्र से अब तक प्रह्लाद जानी ने न तो कुछ खाया है और न ही पीया है| प्रह्लाद जानी खुद ये कहते है कि जब वो १२ साल के थे, तब कुछ साधू इनके पास आये और साथ चलने को कहा, पर इन्होंने साधुओं के साथ जाने से मना कर दिया| करीब ६ महीने बाद तीन कन्याएं प्रह्लाद जी के पास आयी और इनकी जीभ पर ऊँगली रखी| तब से लेकर अब तक इन्हें न तो प्यास लगी है और न ही भूख|
prahlad jani
विज्ञानं कहता है कि कोई भी व्यक्ति बिना खाये ३०-४० दिन तक जिन्दा रह सकता है पर बिना पानी पिये मुश्किल से ५-६ दिन तक जिन्दा रह पाता है| विज्ञानं और आध्यात्म के बीच फांसी ये पहेली अब और भी उलझ गयी है|
साल २००३ और २००५ में १५ दिनों तक प्रह्लाद जानी को अहमदाबाद के न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. सुधीर शाह व तमाम सीसीटीवी के निगरानी में अस्पताल में जांच के लिए रखा गया था| इस दौरान प्रह्लाद जानी ने कुछ भी खाया पिया नहीं था और न ही पेशाब और शौच के लिए गये|
prahlad jani
यही नहीं भारतीय सेना के रक्षा शोध और विकास संगठन की निगरानी में २२ अप्रैल २०११ में भी १५ दिन के लिए अहमदाबाद की निगरानी में रखा गया था| इस दौरान हर आधे से एक घंटे में प्रहलाद जानी को फिजीशियन, कार्डियोलॉजिस्ट, गेस्ट्रोएंटरोलॉजिस्ट,एंडोक्रिनोलॉजिस्ट, डायबिटोलॉजिस्ट, यूरो सर्जन, आंख के डॉक्टर और जेनेटिक के जानकार डॉक्टरों की टीम के जरिए चेक किया जाता रहा और उनकी रिपोर्ट तैयार की जाती रही और इन १५ दिनों में भी पहले जैसा ही रिजल्ट मिला|
prahlad jani
जब पहली बार प्रह्लाद जानी जी को मुंबई के जे जे अस्पताल में लाया गया तो १० दिनों के बाद करीब ३०० डॉक्टरों ने अपनी रिपोर्ट दी जिसमे लिखा था कि १० दिन बाद भी उनके शरीर के सभी अंग स्वस्थ है और पहले की तरह ही काम कर रहे है| दिल की धड़कनो पर कोई खास बदलाव नहीं है| सीने के एक्स - रे सामान्य है| दिमाग के एमआरआई में भी कुछ खास नहीं निकला| डॉक्टर शाह ने तो अपनी वेबसाइट पर प्रह्लादजी के तथ्यों को केस स्टडी के रूप में दुनिया भर के चिकित्स्कों को इस पहेली को सुलझाने की चुनौती भी दे डाली है|

टिप्पणियाँ