यहाँ गये तो बचके आ नहीं सकते - सरकार द्वारा है मनाई

यहाँ गये तो बचके आ नहीं सकते - सरकार द्वारा है मनाई 
दोस्तों, हम आज आपको एक ऐसी जगह के बारे में बताने जा रहे है जहाँ जाना खतरे से खाली नहीं है, जिसकी वजह से वहां की सरकार ने खुद किसी मनुष्य या अन्य किसी प्राणी के जाने पर प्रतिबन्ध लगा दिया है| फिर भी अगर किसी तरह कोई वहां पहुँच भी जाता है तो जिन्दा बचकर नहीं आ सकता| 
snake island brazil
स्नेक आयलैंड (ब्राज़ील)
जी हाँ दोस्तों, यह जगह ब्राज़ील से ९३ मील दूर समुद्र में स्थित एक आयलैंड जिसका नाम 'इल्हा दे कैमेडा ग्रांडे' है, जिसे अब सब स्नेक आयलैंड कहते है| इस ४ लाख ३० हजार वर्ग मीटर की जगह पर लगभग ३० लाख से भी ज्यादा जहरीले 'गोल्डन पीटवाइपर' साँप रहते है| इस जगह पर सिर्फ और सिर्फ इन साँपों की हुकूमत चलती है| इस आयलैंड पर ये साँप हर जगह दिखाई देते है| जमीन, पेड़ और चट्टानों पर हर तरफ सिर्फ ये साँप नज़र आते है| इन साँपों की संख्या इतनी अधिक है कि अगर उदाहरण के तौर पर बताएं तो एक सिंगल बेड पर करीब १० साँप बैठे हो ऐसे यहाँ की जमीन पर हर तरफ साँप रहते है यानी एक वर्गमीटर में करीब ५ साँप रहते है| 
golden pit viper snake
इन साँपों कि गिनती विश्व में सबसे जहरीले साँपों में की जाती है, अगर ये किसी को काट ले लो सिर्फ १० मिनिट में उसकी मृत्यु हो जाती है| ब्राज़ील में सिर्फ साँपों के काटने से होने वाली मृत्यु में ९० प्रतिशत मौतों में ये साँप जिम्मेदार होते है| इनके काटने से मृत्यु ही नहीं बल्कि इंसान का शरीर भी गलने लगता है| 
शुरुवात में इस जगह पर साँपों की संख्या कम थी| तब यहाँ बनाये हुए लाइट हाउस में ब्राज़ीलियन नेवी का एक कर्मचारी तैनात था जो अपनी बीवी और तीन बच्चों के साथ यहाँ रहता था| नेवी वाले इन्हें इनकी जरुरत के सामान को पहुंचाया करते थे| 
समय बीतता गया और इस टापू पर साँपों की संख्या भी बढ़ती गयी| एक दिन खिड़की के रास्तें घर में कुछ साँप घुस गये, जिससे घबराकर पूरा परिवार वहां से बाहर निकल कर तट की ओर भागने लगे| अगले दिन जब नेवी के लोग वहां पहुँचे तो उन्हें इस पूरे परिवार का मृत शरीर तट पर मिला था| उस दिन के बाद से इस टापू पर ब्राज़ीलियन नेवी ने यह जगह प्रतिबंधित कर दी| अब यहाँ सिर्फ तज्ञ विशेष्यगो को शोध करने के लिए आज्ञा मिलती है और वे लोग भी सिर्फ तटीय जगह पर अपना काम करके वापस आ जाते है, इस आयलैंड के अंदर तक जाने की किसी की भी हिम्मत नहीं होती| 
    

टिप्पणियाँ