इस अजीब गाँव में सीटी बजाकर एक-दूसरे को बुलाते है लोग

दोस्तों, हमारे भारत में एक गाँव ऐसा भी है, जहाँ लोग एक दूसरे को नाम से नहीं बल्कि सीटी बजाकर बुलाते है| सुनने में थोड़ा अजीब लगता है, मगर यह सच है| 
व्हिस्लिंग विलेज 
भारत में मेघालय के पूर्वी जिले के खासी हिल में कांगथान नामक एक गाँव है, जहाँ के लोग एक दूसरे को नाम से नहीं बल्कि सीटी बजाकर बुलाते है| इस गाँव में करीब १०९ परिवार के ६२७ सदस्य रहते है| इन सभी लोगों के २ नाम है| एक तो हमारी तरह साधारण नाम और दूसरा सीटी की धुन वाला नाम होता है| इसका मतलब गाँव में कुल ६२७ सीटी की धुनें है| 
हर एक शख्स के लिए एक अलग धुन के प्रयोग से यहाँ लोग एक दूसरे को बुलाते है, जो इनकी पहचान भी होती है| सीटी की ये धुन, बच्चे के पैदा होने के बाद उसकी माँ के द्वारा दी जाती है| जिससे आगे चलकर बच्चा अपनी धुन को पहचानने लगता है| 
गाँव के लोग इस धुन को प्रकृति से निकलने वाली आवाज़ों से प्रेरित होकर बनाते है| जिनमे खासकर किसी चिड़िया की आवाज़ें शामिल होती है| 
कांगथान गांव चरों तरफ से पहाड़ों से घिरे होने के कारण गाँव के लोगों की सीटी की यह धुनें कम समय में बड़ी दूर तक पहुंच जाती है| आधुनिकता के इस दौर में गाँववाले भी बदलने लगे है और अपनी-अपनी नाम की धुनों को अपने मोबाइल की रिंगटोन बनाना भी सिख चुके है|  

टिप्पणियाँ