गुड़ियों का अस्पताल - पिछले १०० साल में हो चूका है ३० लाख गुड़ियों का इलाज

गुड़ियों का अस्पताल - पिछले १०० साल में हो चूका है ३० लाख गुड़ियों का इलाज
दोस्तों, अगर आप सोच रहे हो कि अस्पताल केवल इंसानों और जानवरों के लिए होते है| तो यह गलत है| ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में एक अस्पताल ऐसा भी है जहाँ केवल गुड़ियों का इलाज होता है| यहाँ पर गुड़ियों को रिपेयर करके बनाया जाता है| अब यदि आप सोच रहे है कि इस अस्पताल में कौन आता होगा तो आपको बतादें कि पिछले १०१ साल में इस अस्पताल में करीब ३० लाख से भी ज्यादा गुड़ियों का इलाज हो चूका है| 
साल १९१३ में ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में इस अस्पताल की शुरुवात हेरोल्ड चैपमैन ने की थी| हारोल्ड ने सिडनी में एक जनरल स्टोर के रूप में इस अस्पताल की शुरुवात की थी| उनके भाई का शिपिंग का कारोबार था और इसी के तहत जापान से गुड़ियाँ इम्पोर्ट की जाती थी| 
लाने और ले जाने के दौरान गुड़ियों के पार्ट टूट-फूट जाते थे, जिसे हारोल्ड ठीक किया करते थे| धीरे-धीरे उन्होंने इस जनरल स्टोर को एक गुड़ियों के अस्पताल का रूप दे दिया और आज यह अस्पताल  हारोल्ड के पोते जियोफ कर रहे है| 
यह अस्पताल अपने आप में इसीलिए खास माना जाता है क्यूंकि यहाँ गुड़ियों को ठीक करने के बेहतरीन लोग मौजूद है| यहाँ पर एक आम अस्पताल की तरह ही अलग-अलग वार्ड बने हुए है, जहाँ पर अलग-अलग स्पेशलिस्ट सेवा देते है| कोई गुड़िया का सिर रिपेयर करने में माहिर है तो कोई पैर रिपेयर करने में माहिर है| यहाँ पर मॉडर्न और एंटीक गुड़ियों के अलग-अलग सेक्शन बने हुए है| 
इस अस्पताल के शुरवाती समय में यहाँ पर केवल गुड़िया ही ठीक की जाती थी| लेकिन साल १९३० में हारोल्ड चैपमैन के बेटे ने यहाँ काम संभाला तो उन्होंने यहाँ पर अन्य चीजों की भी रिपेयरिंग शुरू कर दी जैसे कि टेडी बेयर, सॉफ्ट टॉयज, अम्ब्रेला, हैंड बैग इत्यादि| लेकिन यहाँ की स्पेशलिटी केवल गुड़ियों को रिपेयर करना ही है| 
साल १९३९ में द्वितीय विश्वयुद्ध के समय इस अस्पताल के बिज़नेस में तेजी आयी क्यूंकि युद्ध के चलते हर देश में उस चीज की कमी आ गयी जो दूसरे देशों से आती थी| जिसकी वजह से ऑस्ट्रेलिया में भी नयी गुड़िया बेहद कम हो गयी थी|  जिसके पास जो गुड़िया थी उसी से काम चलना पड़ता था और ख़राब होने पर उन्हें यहाँ रिपेयर कराने के अलावा कोई रास्ता नहीं होता था| 
अस्पताल के संचालक जियोफ के मुताबिक जब लोग अपनी प्यारी गुड़िया यहाँ जमा कराने आते है तो उनकी आँखों में आंसू होते है| लेकिन इसके बाद जब कोई बच्चा अपनी प्यारी गुड़िया लेने वापस आता है, तब उसके चेहरे पर जो मुस्कान होती है उससे बढ़कर हमारे लिए कोई चीज नहीं है| 
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आयी हो तो कृपया इसे शेयर और लाइक जरूर करें और कमेंट बॉक्स में लिखकर इसे लोगों को भी बताएं|    

टिप्पणियाँ