July 22, 2021

काल भैरव के इस मंदिर में भगवान को चढ़ाई जाती है शराब

काल भैरव के इस मंदिर में भगवान को चढ़ाई जाती है शराब

भगवान और शराब, ये दो शब्द एक साथ सुनने में बहोत अजीब लगते है| हम आज आपको ऐसे ही एक काल भैरव मंदिर के बारे में बताने जा रहे है जहाँ ये दोनों शब्द एकसाथ सुने और देखें भी जाते है| तो चलिए जानते है|

kalbhairav-mandir-ujjain-काल भैरव मंदिर

मध्यप्रदेश के उज्जैन शहर से करीब ८ कि.मी. दूर क्षिप्रा नदी के तट पर स्थित काल भैरव मंदिर में प्रसाद के रूप में शराब चढ़ाई जाती है| करीब ६००० साल पुराने इस मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता यह है की यहाँ पर भगवान काल भैरव साक्षात रूप में मदिरापान करते है| इस मंदिर को एक वाम मार्गी तांत्रिक मंदिर भी कहा जाता है, जिसकी ये विशेषता होती है कि इन मंदिरों में मदिरा, मांस, बलि और मुद्रा जैसे प्रसाद चढ़ाये जाते है|

kalbhairav-mandir-ujjain-काल भैरव मंदिर

मंदिर में जैसे ही शराब से भरे प्याले काल भैरव की मूर्ती के मुँह से लगाते है तो देखते ही देखते शराब का प्याला खाली हो जाता है| कहा जाता है कि कई वर्षों पहले एक अंग्रेज अधिकारी ने इस बात की छानबीन करने के लिए मूर्ती के आस-पास काफी गहराई तक खुदाई करवाई थी लेकिन उसके हाथ कुछ भी नहीं लगा और वो खुद भी काल भैरव का भक्त बन गया|

kalbhairav-mandir-ujjain-काल भैरव मंदिर

प्राचीन समय में यहाँ पर सिर्फ तांत्रिक ही आया करते थे| बाद में यह मंदिर आम लोगों के लिए खोल दिया गया| धीरे-धीरे इस जगह पर बलि प्रथा को भी ख़त्म कर दिया गया और भगवान काल भैरव को मदिरा का भोग लगाया जाने लगा| मदिरा पिलाने के इस सदियों पुराने सिलसिले को किसने और कब शुरू किया इसके किसी के पास कोई जानकारी नहीं है|
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजिएगा और कँनेट बॉक्स में इसके बारे में लिखकर अपनी प्रतिक्रिया दीजियेगा|

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी |  Fact from around the world that you wont believe.

७ अजूबों में शामिल करने लायक है ये जगहें – फिर भी नहीं है शामिल

गूगल में काम करने का लोग देखते है सपना, मरने के बाद भी मिलती है सैलरी

दुनिया का सबसे मीठा फल जो डाइबिटीज वालों के लिए है वरदान

अद्भुत है ये गुलाबी रंग की झील, जानिये क्या है इसका रहस्य

Leave a Reply