July 29, 2021

चतुर्मुखी जैन मंदिर – 1444 खंभों पर टिका हुआ है ये अद्भुत प्राचीन मंदिर

चतुर्मुखी जैन मंदिर – 1444 खंभों पर टिका हुआ है ये अद्भुत प्राचीन मंदिर

हमारे भारत में विभिन्न जाती-प्रजाति के लोग एक ही धरती पर मिलजुल के अपना जीवन व्यतीत करते है और अपने-अपने धर्मों का पालन भी करते है| देश में कई ऐसे प्राचीन मंदिर-मस्जिद-गुरूद्वारे और चर्च है, जिनकी बनावट और कलाकृति देखकर आज भी लोग दंग रह जाते है| आज हम आपको ऐसे ही एक प्राचीन चतुर्मुखी जैन मंदिर के बारे में बताने जा रहे है, जो सच में अद्भुत है|

ranakpur-jain-temple-in-india-चतुर्मुखी जैन मंदिरराजस्थान के उदयपुर जिले से करीब 96 किलोमीटर की दूरी पर रणकपुर नामक जगह पर एक चतुर्मुखी जैन मंदिर है| इस मंदिर की नक्काशी और कलाकृति देखकर हर इंसान मंत्रमुग्ध हो जाता है| सबसे ख़ास बात यह है कि यह मंदिर 1444 खंभों पर टिके होने के कारण आज पूरी दुनिया में मशहूर हो गया है|

ranakpur-jain-temple-in-india-चतुर्मुखी जैन मंदिर

आचार्य श्यामसुन्दरजी, धरन शाह, कुम्भा राणा और देपा नामक ४ श्रद्धालुओं ने इस मंदिर निर्माण कराया था। आचार्य श्यामसुंदर एक धार्मिक नेता थे जबकि कुम्भा राणा मलगढ़ के राजा और धरन शाह उनके मंत्री थे। धरन शाह ने धार्मिक प्रवित्तियों से प्रेरित होकर भगवान ऋषभदेव का मंदिर बनवाने का निर्णय लिया था।

ranakpur-jain-temple-in-india-चतुर्मुखी जैन मंदिरमंदिर के निर्माण के लिए धरन शाह को मलगढ़ के राजा कुम्भा राणा ने जमीन दी। उन्होंने मंदिर के निर्माण के साथ एक नगर बसाने का सुझाव भी दिया। मदगी नामक गांव और इस मंदिर के निर्माण का कार्य साथ में शुरू किया गया। मंदिर की वास्तुकला के लिए कई वास्तुकारों को आमंत्रित किया गया मगर किसी की भी योजना उन्हें पसंद नहीं आयी। अंत में दीपक नामक एक साधारण से वास्तुकार की योजना उन्हें पसंद आयी।

ranakpur-jain-temple-in-india-चतुर्मुखी जैन मंदिर

इस मंदिर का निर्माण 15 वीं शताब्दी में राणा कुंभा के शासनकाल में हुआ था| राणा कुंभा के ही नाम पर इस जगह का नाम रणकपुर पड़ा था| बेहद ख़ूबसूरती से तराशे गए इस मदिर की बात ही निराली है, जिसे देखने का सुख आँखों को प्रतीत होता है|

ranakpur-jain-temple-in-india-चतुर्मुखी जैन मंदिर

इस मंदिर के अंदर जाते ही इन हजारों खंभों पर नक्काशी देखने में बेहद ही खूबसूरत दिखाई पड़ती है और ख़ास बात यह है कि मंदिर के किसी भी खंभे से जहां से भी नज़र जायेगी आपको मुख्य मूर्ति के दर्शन मिल जाएंगे| इतना ही नहीं इसके अलावा मंदिर में कई तहखानों को भी बनवाया गया है, ताकि संकट के समय तहखानों में पवित्र मूर्तियों को सुरक्षित रखा जा सके|

ranakpur-jain-temple-in-india

जैन धर्म के पांच प्रमुख मंदिरों में से एक ये मंदिर है| इसके मुख्य गृह में तीर्थकर आदिनाथ की संगमरमर की बनी चार मूर्तियां भी है| इस मंदिर में 76 छोटे गुम्बदनुमा पवित्र स्थान, चार बड़े प्राथना कक्ष और चार बड़े पूजन स्थल भी है| इस मंदिर की खूबसूरत नक्काशी और कलाकृति को देखने दूर-दूर से कई पर्यटकों का आना-जाना लगा रहता है|

ranakpur-jain-temple-in-indiaदोस्तों, अगर आपको हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर करें और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दीजियेगा|

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी |  Fact from around the world that you wont believe.

दुनिया के सबसे खतरनाक स्विमिंग पूल

गजब है, ये पुलिसवाला पहनता है १९ नंबर के जूते

ये है वो अजीब जानवर जिनका जिक्र नहीं मिलता किताबों में

दुनिया में सबसे महंगा, ७५ करोड़ रुपये लीटर बिकता है बिच्छू का जहर

Leave a Reply