इस रहस्यमयी झील में जो गया वो बन गया पत्थर का

इस रहस्यमयी झील में जो गया वो बन गया पत्थर का 
दोस्तों, आपने एक राजा की कहानी तो जरूर सुनी होगी जो जिस चीज को छूता था वो सोने की बन जाती थी| मगर शायद आपने एक ऐसी झील के बारे में नहीं सुना होगा जिसके पानी को जो छूता वो पत्थर का बन जाता है? आज हम आपको ऐसी ही एक झील के बारे में बताने जा रहे है|

नेट्रोन झील 

अफ्रीका के उत्तरी तंजानिया में स्थित नेट्रोन नामक इस झील के पानी को जो भी छूता है वह पत्थर का बन जाता है| शायद आपको यकीन न हो, मगर यह सच है|
इस-रहस्यमयी-झील-में-जो-गया-वो-बन-गया-पत्थर-का
बता दें कि फोटोग्राफर निक ब्रान्ड्ट जब उत्तरी तंजानिया की नेट्रोन झील की तटरेखा पर पहुंचे तो वहां के दृश्य ने उन्हें चौंका दिया| इस झील के किनारे कई जगहों पर पशु-पक्षियों के पत्थर जैसी मूर्तियां नजर आयी जो कि असलियत में मृत पक्षी थे| 
इस-रहस्यमयी-झील-में-जो-गया-वो-बन-गया-पत्थर-का
इस झील के संपर्क में आने की वजह से यह पशु-पक्षी कैल्सिफाइड होकर पत्थर में तब्दील हो गए थे| इन पक्षियों के फोटो का संकलन ब्रान्ड्ट ने अपनी किताब Across the Ravaged Land में भी किया है| यह किताब उस फोटोग्राफी डॉक्यूमेंट का तीसरा भाग है, जिसे निक ने पूर्वी अफ्रीका में जानवरों के गायब होने पर लिखा है| 
इस-रहस्यमयी-झील-में-जो-गया-वो-बन-गया-पत्थर-का
इस झील के पानी में अल्कलाइन का स्तर पीएच ९ से पीएच १०.५ है, यानी अमोनिया जितना अल्कलाइन| इतना ही नहीं इस झील के पानी का तापमान भी करीब ६० डिग्री तक पहुंच जाता है| इसके पानी में ज्वालामुखी की राख का तत्व पाया गया है, जिसका प्रयोग मिस्रवासी मृत शरीर (ममियों) को सुरक्षित करने के लिए करते थे| 
इस-रहस्यमयी-झील-में-जो-गया-वो-बन-गया-पत्थर-का
पानी में नमक और सोडा की ज्यादा मात्रा इन मृत पक्षियों के शरीर को सुरक्षित रखता है| नेट्रोन झील के आस-पास की पूरी जगह वीरान है और डरावने हालातों के कारण कोई भी इस जगह पर नहीं आना चाहता|
इस-रहस्यमयी-झील-में-जो-गया-वो-बन-गया-पत्थर-का
दोस्तों अगर आपको हमारी यह जानकारी 'इस रहस्यमयी झील में जो गया वो बन गया पत्थर का' अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में लिखकर अपनी प्रतिक्रिया जरूर दीजियेगा| 

टिप्पणियाँ