इन बल्लेबाजों ने इस्तेमाल किये थे ये अजीब और अनोखे क्रिकेट बैट

दोस्तों, भारत में क्रिकेट को सबसे पॉपुलर खेल माना जाता है। क्रिकेट में अच्छी बल्लेबाजी देखकर दर्शकों को काफी अच्छा लगता है। एक साधारण क्रिकेट बैट तो आपने कई बार देखे होंगे, मगर आज हम आपको कुछ ऐसे क्रिकेट बैट के बारे में बताएंगे जो देखने में अजीब और अनोखे बैट थे। 
ajab-jankari-cricketers-using-weird-cricket-bats-to-play

मंगूस बैट 

इस अजीब से दिखने वाले बैट का इस्तेमाल ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज मैथ्यू हैडन ने साल २०१० की आईपीएल में दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ किया था। इस बैट की सबसे बड़ी खासियत थी कि इस बैट की डिजाइन पॉवरफुल शॉट्स लगाने के लिए किया जाता है। इसके चलते उस मैच में मैथ्यू हैडन ने ४३ बॉल में ९३ रन बनाये थे। बाद में हैडन ने इसका इस्तेमाल नहीं किया क्यूंकि इस बैट से डिफेंड करना बेहद मुश्किल था।
ajab-jankari-cricketers-using-weird-cricket-bats-to-play

गोल्डन बैट 

साल २०१५ में हुए बिग बैश लीग में क्रिस गेल के इस्तेमाल के लिए इस गोल्डन स्पार्टन बैट को इंडिया से ऑस्ट्रेलिया लाया गया था। इस बैट को देखकर लोगों का यह कहना था कि इसका गोल्डन रंग किसी मेटल की वजह से है। मगर बाद में स्पार्टन के मालिक कुणाल शर्मा ने यह बताया कि इस बैट का बेस कलर ही गोल्डन है और इसे क्रिकेट के नियमों के अनुसार ही इस बैट को बनाया गया है और इसके किसी भी मेटल का इस्तेमाल नहीं किया गया है।
ajab-jankari-cricketers-using-weird-cricket-bats-to-play

कार्बन ग्रेफाइट बैट

साल २००५ में ऑस्ट्रेलिया के कप्तान रिकी पोंटिंग ने इस बैट का इस्तेमाल किया था। खास बात यह है कि इस बैट के पीछे की तरफ एक कार्बन ग्रेफाइट की पट्टी लगी हुई थी और इसी की वजह से यह बैट काफी ताकतवर थी। क्रिकेट बोर्ड के परिक्षण के बाद इस बैट के इस्तेमाल करने पर पाबंदी लगा दी गयी थी। मगर इसके पहले ही पॉइंटिंग ने इसी बैट से खेलते हुए साल २००४-२००५ में पकिस्तान के खिलाफ हुए टेस्ट मैच में डबल सेंचुरी लगायी थी।
ajab-jankari-cricketers-using-weird-cricket-bats-to-play

ब्लैक बैट

वेस्टइंडीज टीम के ऑल राउंडर आंद्रे रसेल ने इस बैट का इस्तेमाल बिग बैश लीग में किया था। पहले तो ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट बोर्ड ने इस बैट को इस्तेमाल करने की इजाजत दे दी थी मगर बाद में इस पर पाबंदी लगा दी गयी। जिसका कारण इस बैट पर लगा काला रंग था जो बॉल पर अपना दाग छोड़ दिया करता था, जिसकी वजह से बॉल का रंग बदल जाया करता था।
ajab-jankari-cricketers-using-weird-cricket-bats-to-play

मॉन्स्टर बैट 

साल १७७१ में इंटरनेशनल क्रिकेट शुरू होने से पहले इस बैट का इस्तेमाल थॉमस वाइट नामक एक क्रिकेटर ने किया था। चेर्टसी और हेम्ब्लटन के बीच हुए इस मैच में पहली बार इस बैट को इस्तेमाल किया गया था। बता दें कि यह बैट इतना चौड़ा था कि इससे पूरे स्टंप्स को कवर किया जा सकता था।
ajab-jankari-cricketers-using-weird-cricket-bats-to-play

एल्युमीनियम बैट 

१५ दिसम्बर १९७९ में ऑस्ट्रेलिया के डेनिस लिली ने इंग्लैंड के खिलाफ चल रहे एशेज सीरीज के दौरान इस एल्युमीनियम बैट का इस्तेमाल किया था। इस बैट को देखकर सब आश्चर्यचकित हुए थे। कुछ ४ गेंदे खेलने के बाद इंग्लैंड के कप्तान माइक ब्रेयरली ने अंपायर से बॉल को छति पहुंचने की शिकायत की। जिसके बाद अंपायर ने डेनिस लिली को इस बैट से खेलने के लिए मना कर दिया था। बहुत समझाने के बाद डेनिस लिली ने यह बैट गुस्से में मैदान में फेंक दी थी और दूसरी बैट से खेलना शुरू किया था।
ajab-jankari-cricketers-using-weird-cricket-bats-to-play
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह जानकारी 'इन बल्लेबाजों ने इस्तेमाल किये थे ये अजीब और अनोखे क्रिकेट बैट' अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दीजियेगा। 

टिप्पणियाँ