टीपू सुल्तान ने बनाया था दुनिया का सबसे पहला रॉकेट, नासा में भी मौजूद है इसकी तस्वीर

दोस्तों, वैसे तो हम इस आधुनिक युग में हमने कई देशों को रॉकेट या मिसाइल बनाने की कई खबरें सुनी है| मगर क्या आप जानते है कि दुनिया का सबसे पहला रॉकेट मैसूर के शेर कहे जाने वाले टीपू सुल्तान ने बनाया था और इनके द्वारा युद्ध में इस्तेमाल किये गए रॉकेट की तस्वीर आज भी नासा में मौजूद है|


करीब ३०० साल पहले दक्षिण भारत के जांबाज़ योद्धा टीपू सुल्तान ने एक ऐसे हथियार का अविष्कार किया था जिसने दुश्मनों की नाक में दम कर दिया था| ये वो राजा थे जिन्होंने १८ वी शताब्दी में अंग्रेजों को धुल चटा दी थी| अंग्रेजों ने कई दफा टीपू सुल्तान से हाथ मिलाने की कोशिशें की मगर कभी कामयाब नहीं हुए थे और इसी वजह से टीपू सुल्तान और उनके पिता हैदर अली ने अंग्रेजों के खिलाफ चार जंगे लड़ी थी, जिन्हें एंग्लो मैसूर वॉर के नामों से जाना जाता है|
ajab-jankari-tipu-sultan-invented-rocket
युद्ध के समय जब अंग्रेजों के गोले-बारूद टीपू सुल्तान पर भारी पड़ने लगे थे तब टीपू ने अपने सैनिकों को एक ऐसा हथियार दिया जिसका सामना ब्रिटिश फ़ौज ने पहले कभी नहीं किया था| उस हथियार को इतिहास में मैसूरियन रॉकेट के नाम से जाना जाता है|
ajab-jankari-tipu-sultan-invented-rocket
आपको बता दें कि टीपू सुल्तान के पिता हैदर अली एक सिपाही के बेटे थे और हैदर अली के पिता सैनिक दाल में एक सिग्नलिंग डिवाइस के प्रमुख थे| उन दिनों छोटे रॉकेट का इस्तेमाल युद्ध में सिग्नल देने के लिए किया जाता था| हैदर अली के दिमाग में इन सिग्नल देने वाले छोटे रॉकेट को युद्ध में इस्तेमाल करने की सोच आयी और उन्होंने इसमें छोटे बदलाव करके उनमे बारूद भरकर युद्ध में इस्तेमाल करने के लिए तैयार किया और रॉकेट बनाने का काम शुरू कर दिया|
ajab-jankari-tipu-sultan-invented-rocket
इन रॉकेटों ने टीपू सुल्तान को इतना आकर्षित किया कि इस मैसूर के शेर ने इन रॉकेटों में बदलाव करके, इनमे ४ फुट लंबी तलवारें लगाकर इसे और भी खतरनाक बना दिया| बता दें कि जब इस रॉकेट को आग लगाकर छोड़ा जाता तो रॉकेट में मौजूद बारूद की वजह से इसे करीब १ किलोमीटर तक की गति मिलती और बारूद के ख़त्म होने पर तलवार के वजन की वजह से वे हवा में घूमती हुई अंग्रेजों की सेना पर गिरती और उन्हें भारी नुक्सान पहुँचती थी| 

ये है वो खूबसूरत झीलें जो स्थित है जमीन के नीचे

ajab-jankari-tipu-sultan-invented-rocket
साल १७६७ से साल १७९९ में टीपू सुल्तान और अंग्रेजों के बीच हुई लड़ाइयों में टीपू के इस अविष्कार ने खूब कहर मचाया था| मगर इनके बीच हुई आखिरी लड़ाई, जिसका टीपू सुल्तान को बिल्कुल अंदाजा नहीं था उसमे उन्हें हार का सामना करना पड़ा और वीरगति प्राप्त की| मगर टीपू सुल्तान के मरने के बाद उनके इस अविष्कार को समझने के लिए ब्रिटिश लोग इसे अपने साथ ले गए और इसका इस्तेमाल नेपोलियनों के साथ हुए युद्ध में भी किया था|


ajab-jankari-tipu-sultan-invented-rocket
बता दें कि आज की तारीख में दुनिया का हर देश अपने बचाव और दुश्मनों के हमले के लिए कई रॉकेटों का अविष्कार किया है| इतना ही नहीं अंतरिक्ष में जाने के लिए भी ऐसे ही रॉकेटों का इस्तेमाल हमने देखा है| ये सारी चीजें अगर बनी है तो उसकी जड़ यानी कि कारण टीपू सुल्तान के बनाये गए ये रॉकेट ही है जो आज भी लंदन के रॉयल आर्टिलरी म्यूजियम में रखें हुए है|
ajab-jankari-tipu-sultan-invented-rocket
इतना ही नहीं टीपू सुल्तान और अंग्रेजों के बीच हुए इस रॉकेट युद्ध की तस्वीर नासा ने भी अपने पास लगा रखी है|  हमारे देश के पूर्व राष्ट्रपति स्वर्गीय श्री एपीजे अब्दुल कलाम आज़ाद ने भी अपनी पुस्तक विंग्स ऑफ़ फायर में नासा में मैसूर के रॉकेट युद्ध की तस्वीर देखे जाने का उल्लेख किया है|
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह जानकारी 'टीपू सुल्तान ने बनाया था दुनिया का सबसे पहला रॉकेट, नासा में भी मौजूद है इसकी तस्वीर' अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दीजियेगा|..... NEXT


दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी | Fact from around the world that you wont believe. 

जब संजय दत्त को मारने के लिए घूम रहे थे ४ शूटर, जाने कैसे बचायी थी संजय ने अपनी जान
ये है अमिताभ बच्चन का कादर खान को बर्बाद करने वाला सच जो रुला देगा आपको 
हाथी से घुटने तुड़वाये और लगातार २५ फ्लॉप फ़िल्में देने के बाद भी सुपरस्टार बन गया ये अभिनेता
ये है वो खूबसूरत झीलें जो स्थित है जमीन के नीचे

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

Please do not enter any spam link in the comment box.