September 24, 2021

मेहमूद अली – एक कार ड्राइवर से बॉलीवुड कॉमेडियन बने थे ये अभिनेता

बॉलीवुड की दुनिया में ऐसे कई कलाकार है जिन्होंने फर्श से अर्श का सफर तय करते हुए बॉलीवुड में अपनी पहचान बनाई है। आज हम आपको ऐसे ही एक कलाकार मेहमूद अली के बारे में बताने जा रहे है जिनकी पहचान बॉलीवुड में एक बेहतरीन कॉमेडियन के रूप में की जाती है।

bollywood-mehmood-car-driver-to-comedy-king-मेहमूद अली

मेहमूद अली 

२९ सितम्बर १९३२ में जन्मे मेहमूद अली के पिता मुमताज़ अली जी ‘बॉम्बे टॉकीज’ स्टूडियों में काम किया करते थे। मेहमूद साहब अपने माता-पिता की ८ संतानों में से दूसरे नंबर की संतान थे। पिता मुमताज़ अली साहब फिल्मों में छोटे किरदार निभाया करते और डांस भी अच्छा करते थे। फ़िल्मी माहौल की वजह से मेहमूद अली का झुकाव भी एक्टिंग की तरफ था।

bollywood-mehmood-car-driver-to-comedy-king-मेहमूद अली

बचपन में अपने पिता की सिफारिश की वजह से मेहमूद को ‘किस्मत’ नामक फिल्म में अशोक कुमार के बचपन का रोल निभाने का मौका मिल गया था। इसके बाद मेहमूद अली को निर्माता ज्ञान मुखर्जी के यहां बतौर ड्राइवर उन्होंने नौकरी कर ली। इस वजह से मेहमूद को हर दिन फ़िल्मी स्टूडियों जाने का मौका मिल ही जाता था।

bollywood-mehmood-car-driver-to-comedy-king-मेहमूद अली

एक बार रोज की तरह स्टूडियों पहुंचने पर मेहमूद ने देखा कि वहां अभिनेत्री मधुबाला एक फिल्म की शूटिंग कर रही थी और मधुबाला के साथ एक जूनियर आर्टिस्ट एक सीन शूट कर रहा था जो ठीक से तरह से नहीं हो पा रहा था। काफी रीटेक्स हो चुके थे।

bollywood-mehmood-car-driver-to-comedy-king

ये देखकर मेहमूद के अंदर का कलाकार छटपटाने लगा और उन्होंने सब के सामने कह दिया कि मुझे एक मिले तो मैं ये शॉट दे सकता हूँ और ये डायलॉग बोल सकता हूँ। ये सुनते ही फिल्म के निर्देशक ने मेहमूद अली को कैमरे के सामने आमंत्रण दे दिया।

कई सालों से गुम है अभिनेता राज किरण, हालात ने पहुंचाया था पागलखाने

मेहमूद अली साहब ने इस सीन के एक लम्बे डायलॉग को एक ही टेक में पूरा कर दिया। उस दिन मेहमूद साहब को इस काम के लिए १०० रुपये मिले थे, जबकि उस समय ड्राइवर की नौकरी के लिए उनकी महीने की तनख्वाह महज ७५ रुपये थी। ये देखकर मेहमूद अली साहब ने अंजाम की फिकर ना करते हुए ड्राइवर की नौकरी छोड़ दी और जूनियर आर्टिस्ट एसोसिएशन में अपना नाम रजिस्टर करवा दिया।

bollywood-mehmood-car-driver-to-comedy-king

फिल्मों में छोटे-छोटे किरदार करने के बाद साल १९५८ में इनकी मेहनत रंग लायी और इन्हें फिल्म ‘परवरिश’ में एक अच्छी भूमिका निभाने का मौका मिला। जिसमें वो अभिनेता राज कपूर के भाई बने थे। इसके बाद एल वी प्रसाद की फिल्म ‘ससुराल’ में बतौर हास्य अभिनेता के रूप में मेहमूद जी की पहचान बॉलीवुड में बन गयी और देखते ही देखते मेहमूद साहब ‘कॉमेडी किंग’ बन गए।

bollywood-mehmood-car-driver-to-comedy-king

दोस्तों, अगर आपको हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में लिखकर अपनी प्रतिक्रिया जरूर दीजियेगा।

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी | Fact from around the world that you wont believe.

आमिर खान करते थे श्रीदेवी से प्यार, डरते थे उनके सामने जाने से

शोले – धर्मेंद्र की इस गलती से अमिताभ बच्चन की चली जाती जान

अमिताभ के हाथ का जलना ऐसे बन गया उनका स्टाइल

जब राज कपूर ने भरी पार्टी में राजकुमार को कहा ‘तुम एक हत्यारे हो’

Leave a Reply