आखिर क्या है ये 'रानी की वाव' की तस्वीर जो छपी है १०० रूपये की नयी नोट पर

दोस्तों, देश के प्राचीन इतिहास और इमारतों की बात करें तो आज भी बहुत सी इमारतें ऐसी है जो अपनी खासियत के लिए दुनियाभर में काफी मशहूत है। ऐसी ही एक ऐतिहासिक धरोवर है 'रानी की वाव', जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे है।
ajab-ghazab-rani-ki-vav-in-gujrat

'रानी की वाव' 

११ वी सदी में इस वाव का निर्माण मुलाराजा के बेटे भीमदेव प्रथम की याद में उनकी विधवा पत्नी उदयमती ने करवाया था। जिसे बाद में करणदेव प्रथम ने पूरा किया। 

गुजरात के पाटन (पहले 'अन्हिलपुर' के नाम से जाना जाता था) जिले में स्थित इस बावड़ी के निर्माण में मारु-गुर्जर स्थापत्य शैली का इस्तेमाल बहुत ख़ूबसूरती से किया गया है।
ajab-ghazab-rani-ki-vav-in-gujrat
इस बावड़ी को बनाने का मूल मकसद दरअसल जल संरक्षण था। पाटन जिले में चूंकि बारिश कम होती है, इसीलिए सरस्वती नदी के किनारे रानी उदयमती ने इस वाव के निर्माण की योजना बनाई ताकि बरसात के समय इस वाव में जमा पानी बाद में लोगों के काम आये। 
ajab-ghazab-rani-ki-vav-in-gujrat
इस बावड़ी के कुछ समय के इस्तेमाल के बाद सरस्वती नदी ने इसे पूरी तरह से जलव्याप्त कर दिया था और सैकड़ों सालों तक नदी में आने वाली बाढ़ की वजह से ये बावड़ी धीरे-धीरे कीचड, रेत और मिट्टी के नीचे दबती चली गयी। साल १९८० तक यह बावड़ी पूरी तरह से पानी से ही भरी हुई थी। कुछ समय बाद जब आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया ने इसे खोज निकाला था और उस समय इस बावड़ी की हालत बहुत ख़राब थी। 
ajab-ghazab-rani-ki-vav-in-gujrat
रानी की वाव तकरीबन ६४ मीटर लम्बी, २७ मीटर गहरी और २० मीटर चौड़ी है। यह बावड़ी अपने समय की सबसे प्राचीन और सबसे अद्भुत निर्मितियों और कलाकृतियों का बेहद सुन्दर उदहारण दर्शाती है। 
यह भी पढ़ें : 
ये है 'जंगमवाड़ी मठ' जहाँ अपनों की मृत्यु पर दान करते है शिवलिंग
इस अधूरे निर्मित मंदिर में है दुनिया का सबसे विशालकाय शिवलिंग

बावड़ी में बनी बहुत सी कलाकृतियों में ज्यादातर भगवान विष्णु से सम्बंधित है। भगवान विष्णु के दशावतार के रूप में ही बावड़ी की मूर्तियों का निर्माण किया गया है, जिनमें से प्रमुख रूप से कल्कि, राम, कृष्णा, नरसिम्हा, वामन, वाराही और दुसरे मुख्य अवतार भी शामिल है।
ajab-ghazab-rani-ki-vav-in-gujrat
रानी की वाव में आज भी ऐसे कई आयुर्वेदिक पौधे देखें जा सकते है जिनका इस्तेमाल प्राचीन समय में बहुत गंभीर बीमारियों के उपचार के लिए किया जाता था। बावड़ी के नीचे एक छोटा द्वार भी है जिसके भीतर ३० किलोमीटर की एक सुरंग भी है, मगर फिलहाल इस सुरंग को मिट्टी और पत्थरों से ढक दिया गया है। पहले यह सुरंग बावड़ी से निकलकर सीधी सिधपूर गांव को जाकर मिलती थी, जिसे बताया जाता है कि इसका उपयोग गुप्त निकास द्वार के रूप में उस समय राजा किया करते थे।
ajab-ghazab-rani-ki-vav-in-gujrat
सात मंजिला इस वाव की दीवारों और स्तंभों पर सैकड़ों नक्काशियां की गयी है। सात तलों में विभाजित इस सीढ़ीदार कुएं में नक्काशी की गयी ५०० से भी अधिक बड़ी मूर्तियां और हजारों की संख्या में छोटी मूर्तिया है। साल २०१४ में रानी की वाव को यूनेस्को ने विश्व विरासत में शामिल किया है और भारत सरकार ने रानी की वाव को साल २०१८ में हलके बैगनी रंग की १०० रूपये की नोट पर इस विश्व धरोहर की तस्वीर को सम्मान दिया है।
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दीजियेगा। 

टिप्पणियाँ