जब भगत सिंह की मां से मिलने गए थे मनोज कुमार

दोस्तों, बॉलीवुड के भारत कुमार उर्फ़ मनोज कुमार उर्फ़ हरिकृष्ण गिरी गोस्वामी को कौन नहीं जानता। एक समय में देशभक्ति की सुपरहिट फ़िल्में देने वाले मनोज कुमार की फिल्मों के देशभक्ति के गाने आज भी सुने जाते है।  
ajab-jankari-when-manoj-kumar-met-bhagat-singh-mother
२४ जुलाई १९३७ में ब्रिटिश इंडिया के समय में अब्बोटाबाद में जन्मे हरिकृष्ण गिरी गोस्वामी १० साल की उम्र में बटवारें के बाद अपने परिवार के साथ दिल्ली आ गए थे। इन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के हिन्दू कॉलेज से अपनी पढाई पूरी की। 

अभिनय में रूचि रखने वाले हरिकृष्ण गिरी गोस्वामी एक बार अपने कुछ दोस्तों के साथ अपने चहिते अभिनेता दिलीप कुमार की फिल्म 'शबनम' देखने गए थे। इस फिल्म में दिलीप कुमार का नाम मनोज कुमार था, बस तब से हरिकृष्ण गोस्वामी ने भी अपना नाम बदलकर मनोज कुमार रख लिया।  
ajab-jankari-when-manoj-kumar-met-bhagat-singh-mother
पढाई पूरी करने के बाद मनोज कुमार दिल्ली से मुंबई आ गए और फिल्मों में काम करना शुरू कर दिया। फ़िल्मी दुनिया के लोगों ने मनोज कुमार को 'भारत कुमार' नाम दे दिया, जिसका श्रेय इनकी हर देशभक्ति से भरी सुपरहिट फिल्मों को जाता है। इन फिल्मों में देशभक्ति का तड़का होता था और इनके निभाए गए हर कॅरेक्टर का नाम भारत कुमार होता था। 
ajab-jankari-when-manoj-kumar-met-bhagat-singh-mother
मनोज कुमार की देशभक्ति फिल्मों का सफर शुरू हुआ था साल १९६५ में आयी उनकी फिल्म 'शहीद' से, जिसमें उन्होंने 'शहीद भगत सिंह' का किरदार निभाया था। परदे पर भगत सिंह के किरदार में जान डालने के लिए मनोज कुमार ने चंडीगढ़ में शहीद भगत सिंह की मां विद्यावती कौर और उनके भाइयों से मुलाक़ात की थी, जिनमें बटुकेश्वर दत्त भी शामिल थे। 
ajab-jankari-when-manoj-kumar-met-bhagat-singh-mother
अपने एक लेख में मनोज कुमार ने बताया था कि शहीद भगत सिंह की मां से मिलने के बाद वो काफी भावुक हो गए थे और उन्हें ये सौभाग्य प्राप्त हुआ कि वो माताजी की गोद में सर रखकर फुट-फुटकर रो सके। अपने इस लेख में मनोज कुमार ने बताया था कि जब एक बार भगत सिंह की मां ने दवाइयां लेना बंद कर दिया था तब मनोज कुमार के निवेदन करने पर उन्होंने दवाइयां ली थी।
ajab-jankari-when-manoj-kumar-met-bhagat-singh-mother
शहीदे-आजम भगत सिंह की मां से मिलने के बाद मनोज कुमार पर देशभक्ति का ऐसा जूनून छा गया कि अपनी हर फिल्मों में वो इसे दर्शाने लगे और फिर दर्शकों इनका नाम मनोज कुमार से भारत कुमार रख दिया गया। 
ajab-jankari-when-manoj-kumar-met-bhagat-singh-mother
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह जानकारी 'जब भगत सिंह की मां से मिलने गए थे मनोज कुमार' अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दीजियेगा।

टिप्पणियाँ