June 18, 2021

मतंगेश्वर महादेव मंदिर – इस मंदिर के शिवलिंग की लंबाई बढ़ती है हर साल

मतंगेश्वर महादेव मंदिर – इस मंदिर के शिवलिंग की लंबाई बढ़ती है हर साल

खजुराहों में मतंगेश्वर महादेव मंदिर लोगों की आस्था का प्रमुख केंद्र है| मंदिर में स्थित शिवलिंग ९ फ़ीट जमीन के अंदर कर उतना ही बाहर भी है| यही नहीं इसके अलावा मंदिर में मौजूद इस शिवलिंग की हर साल शरद पूर्णिमा के दिन एक इंच लंबाई बढ़ती है| इसे यहाँ के अधिकारी इंची टेप से नापते है|

bharat-ke-mandir-matangeshwar-mahadev-mandir-in-khajuraho-मतंगेश्वर महादेव मंदिर
मंदिर के पुजारी के अनुसार प्रति वर्ष कार्तिक माह की शरद पूर्णिमा के दिन शिवलिंग की लंबाई एक तिल के आकर के बराबर बढ़ जाती है| शिवलिंग की लंबाई नापने के लिए पर्यटन विभाग के कर्मचारी बाकायदा इंची टेप से नापते है| जहाँ शिवलिंग पहले से तुलना में लंबा मिलता है|
bharat-ke-mandir-matangeshwar-mahadev-mandir-in-khajuraho-मतंगेश्वर महादेव मंदिर
मंदिर की विशेषता यह है कि यह शिवलिंग जितना ऊपर की तरफ बढ़ता है उतना ही नीचे की तरफ बढ़ता है| शिवलिंग का यह अद्भुत चमत्कार देखने के लिए लोगों का सैलाब मंदिर में उमड़ता है| वैसे तो यह मंदिर भक्तो से सालभर भरा रहता है लेकिन सावन माह में यहाँ भक्तों का तांतां लगा रहता है| दर्शन करने के लिए लोग लंबी लाइनों में लगे रहते है|
bharat-ke-mandir-matangeshwar-mahadev-mandir-in-khajuraho-मतंगेश्वर महादेव मंदिर
लक्ष्मण मंदिर के पास स्थित यह मंदिर ३५ फ़ीट के वर्गाकार दायरे में है| इसका गर्भगृह भी वर्गाकार है| प्रवेश द्वार पूरब की ओर है| मंदिर का शिखर बहुमंज़िला है| इसका निर्माण काल ९०० से ९२५ ईस्वी के आसपास का माना जाता है| चंदेल शासक हर्षदेव के काल में इस मंदिर का निर्माण हुआ|
bharat-ke-mandir-matangeshwar-mahadev-mandir-in-khajuraho-मतंगेश्वर महादेव मंदिर
मंदिर के गर्भगृह में विशाल शिवलिंग है जो ८.५ फ़ीट ऊंचा है| इसका घेरा तकरीबन ४ फ़ीट का है| इस शिवलिंग को मृत्युंजय महादेव के नाम से भी लोग जानते है| छतरपुर जिले के खजुराहों में किसी समय ८५ मंदिर होते थे, लेकिन अब सिर्फ कुछ ही मंदिर बचे है| पुरातत्व मंदिरों में मतंगेश्वर महादेव का ही एक ऐसा मंदिर है|
bharat-ke-mandir-matangeshwar-mahadev-mandir-in-khajuraho

मतंगेश्वर महादेव मंदिर ९ वीं सदी में बना हुआ मंदिर है| आज यह मंदिर पूजा-पाठ व आस्था का केंद्र बना हुआ है| मतंगेश्वर महादेव मंदिर को खजुराहों में सबसे ऊंचा मंदिर माना जाता है| पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान् शंकर के पास मकरत मणि थी, जिसे शिव ने पांडवों में ज्येष्ठ भाई युधिष्ठिर को दे दी थी|

bharat-ke-mandir-matangeshwar-mahadev-mandir-in-khajuraho

युधिष्ठिर के पास से वह मणि मतंग ऋषि तक पहुंची ओर उन्होंने राजा हर्षवर्मन को दे दी| मतंग ऋषि की मणि की वजह ही इस मंदिर का नाम मतंगेश्वर महादेव मंदिर पड़ा| कहा जाता है कि शिवलिंग के बीच मणि सुरक्षा की दृष्टि से जमीन में गाड़ दी गयी थी| तब से मणि शिवलिंग के नीचे ही है|

bharat-ke-mandir-matangeshwar-mahadev-mandir-in-khajuraho
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में लिखकर इसके बारे में लोगों को भी बताइयेगा|

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी | Fact from around the world that you wont believe.

दुनिया का सबसे खूबसूरत इस गाँव में नहीं है सड़कें

७ अजूबों में शामिल करने लायक है ये जगहें – फिर भी नहीं है शामिल

गूगल में काम करने का लोग देखते है सपना, मरने के बाद भी मिलती है सैलरी

दुनिया का सबसे मीठा फल जो डाइबिटीज वालों के लिए है वरदान

Leave a Reply