September 24, 2021

ये फ़िल्मी गाने ना होते तो बेरंग होती लोगों की होली

ये फ़िल्मी गाने ना होते तो बेरंग होती लोगों की होली

बिना रंग के और भांग के होली होती ही नहीं है इसके साथ-साथ जब अबीर-गुलाल में फिल्मों के गानों का रस घुल जाए तो फिर क्या कहने? फिर जो महफ़िल जमती है उसे शब्दों में बयां कर पाना थोड़ा मुश्किल है। सतरंगी रंगों से रंगे चेहरे जब इन फ़िल्मी गानों पर थिरकते है तो मजा और दुगुना हो जाता है। 

bollywood-ke-kisse-bollywood-has-given-much-importance-to-holi-फ़िल्मी

इन फ़िल्मी गानों के बिना तो जैसे होली अधूरी है। पुराने जमाने से लेकर इस नए जमाने के लोगों के लिए इन गानों ने हर होली रंगीन बनाई है।

‘जमुना तट होली खेले श्याम’ (फिल्म ‘औरत’१९४०)

साल १९४० में भारतीय सिनेमा को होली का सबसे पहला गीत देने वाली निर्देशक मेहबूब खान की फिल्म ‘औरत’ थी। जिस समय ये फिल्म आयी थी वो दौर ब्लैक एंड वाइट फिल्मों का था। इस फिल्म के गाने ‘जमुना तट होली खेले श्याम’ गीत पर नाचती अभिनेत्री राधा अख्तर सात रंगों में तो रंगी थी, मगर परदे पर उसे सिर्फ दो ही रंगो में देखा गया था वो रंग थे काला और सफ़ेद। ये वही फिल्म थी जिसका आगे चलकर रीमेक बनाया गया, उस फिल्म का नाम था ‘मदर इंडिया’, जो भारतीय सिनेमा इतिहास की सबसे बेहतरीन फिल्मों में से एक है।

‘डारो रे रंग, डारो रे रसिया’ (फिल्म ‘जोगन’१९५०)

रंगीन फिल्मों का दौर आया। साल १९५० की फिल्म ‘जोगन’ के इस गीत को गीता दत्त ने अपनी सुरीली आवाज़ दी थी। यह गीत मीरा के भजन पर आधारित था। इस फिल्म को दिलीप कुमार और नरगिस ने अपने अभिनय से सजाया था।

‘खेलो रंग, हमारे संग’ (फिल्म ‘आन’१९५३)

होली को सबसे बड़ी पहचान दिलीप कुमार के अभिनय से सजी फिल्म ‘आन’ के इस गाने से मिली। निर्देशक मेहबूब खान ने अपनी इस कलर फिल्म में रंगों का बखूबी इस्तेमाल किया।

‘तन रंग लो जी, आज मन रंग लो जी’ (फिल्म ‘कोहिनूर’१९६०) 

६० के दशक में आते-आते उस जमाने के सुपरस्टार दिलीप कुमार को ट्रेजेडी किंग का ताज मिल चूका था। १९६० में आयी दिलीप कुमार की फिल्म ‘कोहिनूर’ के इस गीत में रजवाड़े की शाही होली को दिखाया गया है।

‘आज ना छोड़ेंगे बस हमजोली, खेलेंगे हम होली’ (फिल्म ‘कटी पतंग’१९७०) 

कई बार फ़िल्मी परदे पर दिखाई गयी चीजों से हमारे समाज के बड़े तबके को एक संदेश पहुंचता है। जिसमें होली को महज रंगों का नहीं बल्कि प्रेम की और समाज द्वारा होली के दिन अनदेखा की जाने वाली विधवाओं को साथ में लेने का भी त्यौहार है। साल १९७० की फिल्म ‘कटी पतंग’ के इस गीत में विधवा आशा पारेख और राजेश खन्ना के प्रेम को इस सदाबहार गाने में दिखाया गया है। 

‘होली के दिन दिल खिल जाते है, रंगो में रंग मिल जाते है’ (फिल्म ‘शोले’ -१९७५)

रमेश सिप्पी की फिल्म ‘शोले’ के इस गीत के बिना होली का त्यौहार बिल्कुल अधूरा सा है, जैसे इस ब्लॉकबस्टर फिल्म के बिना हिंदी सिनेमा। इस गाने में हेमा मालिनी और धर्मेंद्र होली की हुल्लड़बाजी करते हुए जमकर नाचते हुए दिखाया गया है। गाने की बीच की एक लाइन में ‘दुश्मन भी दोस्त बन जाते है’ होली के त्यौहार का एक सरल संदेश देता है।

 

‘रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे’ (फिल्म ‘सिलसिला’ -१९८१)

८० के दशक में साल १९८१ में निर्देशक यश चोपड़ा की फिल्म ‘सिलसिला’ के इस गाने तो हिंदी सिनेमा में होली के गीतों में इतिहास रच डाला। बिना इस गाने के होली के बारे में कोई सोच भी नहीं सकता। होली के गानों में प्रेम का एक अलग रूप अगर किसी गीत में दिखा तो वो ये गीत है। जिसमें एक पति (अमिताभ बच्चन) अपनी पत्नी (जया बच्चन) के सामने अपनी पूर्व प्रेमिका (रेखा) से जमकर होली के बहाने इश्कबाजी करते हुए दिखाई देता है। 

‘होली खेले रघुबीरा’ (फिल्म ‘बागबान’ -२००३) 

एक बार फिर अभिनेता अमिताभ बच्चन ने फिल्म ‘बागबान’ के जरिये लोगों को एक और होली के गीत की सौगात दे दी। इस गीत में अपने मां-बाप को छोड़कर अपनी पत्नी के साथ कहीं और बस जाने वाले लोगों को वापस मां-बाप के साथ होली खेलते दिखाया गया है। 

‘बलम पिचकारी जो तूने मुझे मारी’ (फिल्म ‘ये जवानी है दीवानी’ -२०१३)

साल २०१० आते-आते होली के गानों से गांव का देशी कल्चर जैसे गायब सा हो चूका था। शहर में रहने वाले लोग या फिर कॉलेज के युवा-युवतियां होली के दिन मिली छुट्टी को किस तरह इस्तेमाल करते है ये गानों में दिखाए जाने लगा। इन्हीं में से एक गाना रणबीर कपूर और दीपिका पादुकोणे की फिल्म ‘ये जवानी है दीवानी’ फिल्म का है।

‘खेलन क्यों ना जाए तू होली में रसिया’ (फिल्म ‘बदरीनाथ की दुल्हनिया’ २०१८)

अभिनेता वरुण धवन और अभिनेत्री आलिया भट्ट के अभिनय से सजी इस फिल्म के होली गीत ने युवा लोगों में होली के लिए उमंग को और ज्यादा भर दिया। होली के गीतों की लिस्ट में ये गाना भी  युवाओं की जरुरत बन गया है।

bollywood-ke-kisse-bollywood-has-given-much-importance-to-holi-फ़िल्मी

होली पर बने इन फ़िल्मी गीतों में दिलीप कुमार, राजेश खन्ना, अमिताभ बच्चन, शाहरुख़ खान, रणबीर कपूर और वरुण धवन सबने बॉलीवुड में अपनी छाप होली के इन गानों के जरिये छोड़ी है। होली के इस त्यौहार को भी थोड़ा घमंड तो जरूर हो रहा होगा कि बाकी सारे त्योहारों में से बॉलीवुड में होली के त्यौहार को काफी महत्त्व मिला है।
दोस्तों, आपके मुताबिक इन गानों के अलावा और कौन से ऐसे होली के गीत है जो इस लिस्ट में आने चाहिए था कृपया कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताइयेगा और जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा। 

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी | Fact from around the world that you wont believe.

जब उर्मिला मातोंडकर को थप्पड़ मारा रामगोपाल वर्मा की पत्नी ने

आखिर क्यों अभिनेता महमूद से डरा करते थे किशोर कुमार

अपनी ही शादी में बेहोश हो गए थे ऋषि कपूर और नीतू सिंह

चाय ना मिलने पर अभिनेता अमजद खान ने कर दी थी ऐसी हरकत

Leave a Reply