June 17, 2021

GUNJAN SAXENA : The Kargil Girl watch Online

GUNJAN SAXENA: The Kargil Girl watch Online (Story)

gunjan-saxena-the-kargil-girl-watch-online

फिल्म की कहानी की शुरुआत लखनऊ में 1984 में युवा GUNJAN SAXENA के साथ उसके बड़े भाई अंशुमन के साथ एक उड़ान में होती है। गुंजन हवाई जहाज की खिड़की से बाहर देखना चाहती है, लेकिन अंशुमन उसे जाने नहीं देता। एक एयर होस्टेस गुंजन की बाहर देखने की उत्सुकता को देखती है और गुंजन को कॉकपिट में ले जाती है। कॉकपिट को देखते हुए तुरंत उसके मन में एक पायलट बनने की इच्छा पैदा होती है क्योंकि वह विमान की विशेषताओं के बारे में उत्साही महसूस करता है।

gunjan-saxena-the-kargil-girl-watch-online

कुछ साल बाद, गुंजन (जान्हवी कपूर) अपनी दसवीं की परीक्षा में ९३ % से पास हो जाती है जिसकी ख़ुशी में उसके रिटायर्ड आर्मी अफसर पिता अनूप (पंकज त्रिपाठी) घर पर पार्टी का आयोजन करते है। पार्टी में आये सारे लोग गुंजन को बधाई देते है और उसे आगे और पढ़ने के लिए प्रेरित करते है। गुंजन, हालांकि पायलट बनने के लिए हाई स्कूल की पढ़ाई नहीं करना चाहती हैं। भाई अंशुमन (अंगद बेदी) को लगता है कि महिलाओं को कॉकपिट में नहीं होना चाहिए, लेकिन बेटे की इस सोच से पिता अनूप सहमत नहीं होते हैं। लड़का और लड़की में फर्क रखने वाली सोच से परे पिता अपनी बेटी गुंजन की पायलट बनने की इच्छा में साथ देते हुए उसे आगे बढ़ने की अनुमति देते है।

धर्मेंद्र की इस गलती से अमिताभ बच्चन की चली जाती जान

गुंजन कई प्रयास करती हैं, लेकिन उनकी शैक्षणिक योग्यता और उच्च लागतों के बारे में चिंताओं के कारण उन्हें परेशान किया जाता है, जिससे वह हर बार निराश होकर घर लौट जाती हैं। गुंजन की माँ कीर्ति (आयशा रज़ा मिश्रा) को उम्मीद रहती है कि उनकी बेटी जल्द ही पायलट बनने की जिद छोड़ देगी और पिता अनूप अपनी बेटी को अपने सपनों को लगातार आगे बढ़ाने की अनुमति देने पर जोर देते है।

gunjan-saxena-the-kargil-girl-watch-online

एक तरफ एक अख़बार द्वारा भारतीय वायु सेना में भर्ती होने के अवसर को पिता स्वीकृति देते हुए गुंजन को आगे बढ़ने का हौसला देते है। और दूसरी तरफ भाई अंशुमान, जो खुद सेना में सेवारत है, पूरी तरह से निराश हो जाता है और गुंजन को बताता है कि वायु सेना महिलाओं के लिए जगह नहीं है। हालांकि, वह उसे अनदेखा करती है, और औपचारिकताओं के साथ आगे बढ़ती है।

कमल हसन की इस फिल्म की वजह से प्रेमी जोड़ों ने की थी आत्महत्या

gunjan-saxena-the-kargil-girl-watch-online

अपने चिकित्सा परीक्षणों के दौरान, गुंजन सक्सेना को पता चलता है कि वह वायुसेना की आवश्यकताओं के अनुसार उसका कद एक सेंटीमीटर छोटा और शारीरिक वजन सात किलोग्राम अधिक है। गुंजन को दो हफ़्तों में फिर से अर्जी देने की सलाह देते हुए रिजेक्ट कर दिया जाता है और वह निराश होकर घर लौट आती है। पिता अनूप से इस बारे में चर्चा करती है, तो पिता उसे हार नहीं मानने के लिए कहता है और साथ में वे अपना वजन कम करने के लिए वर्कआउट करने की सलाह देते है।

gunjan-saxena-the-kargil-girl-watch-online

दो हफ्तों में वजन तो कम हो जाता है मगर वह अभी भी कद की ऊंचाई अब भी कम होती है। ऐसे में अधिकारियों जांच करने पर पता चलता है कि उसके हाथों और पैरों की लंबाई आवश्यकता से करीब डेढ़ इंच लंबे है। इस वजह से गुंजन को सेलेक्ट कर लिया जाता है। हालाँकि, भाई अंशुमन अभी भी अपनी बहन को वायुसेना में भर्ती ना होने की सलाह देता है, लेकिन गुंजन उसकी बातों को अनदेखा करते हुए प्रशिक्षण शुरू करने का फैसला करती है।

gunjan-saxena-the-kargil-girl-watch-online

अपने प्रशिक्षण के दौरान, वह खुद को वायु सेना के पुरुष-प्रधान आदेश के कारण कई कठोर वास्तविकताओं और असुविधाओं के अधीन पाती है, और प्रशिक्षण शिविर छोड़ने का फैसला कर लेती है, मगर एक बार फिर पिता के हौसले के कारण वह फिर से प्रशिक्षण शिविर वापस जाती है। जब 1999 में, कारगिल युद्ध शुरू होता है, और तब वहां सभी वायु सेना के पायलटों की जरूरत है।gunjan-saxena-the-kargil-girl-watch-onlineगुंजन को भी इस युद्ध में हिस्सा लेने के लिए भेजा जाता हैं। वहां भी भाई अंशुमान उससे मिलकर उसे इस युद्ध में हिंसा ना लेने की सलाह देता है इसके बावजूद, गुंजन इस युद्ध में अपना सहयोग देने की ठान लेती है। वह मिशन का हिस्सा बने रहना चाहती है मगर फिर भी उसे एक लड़की होने के कारण मिशन को छोड़ने का आदेश दिया जाता है, उससे कहा जाता है कि ये मिशन उसके लिए बहुत मुश्किल है। आदेश को अनसुना करते हुए गुंजन अपनी आँखों के सामने अपने भारतीय जवानों को लड़ता हुआ देख उनकी मदद के लिए आगे आती है।

gunjan-saxena-the-kargil-girl-watch-online

गुंजन और एक अन्य पायलट अलग हेलीकॉप्टर लेते हैं और घायल सैनिकों की सहायता के लिए आगे बढ़ते हैं। अचानक, जैसे ही दूसरा हेलीकॉप्टर आग का हमला झेलता है, गुंजन खुद को गोलियों के संपर्क में होने के बावजूद दूसरे पायलट और घायल सैनिकों को बचा लेती है और एक जोखिम भरे इस मिशन को सफलतापूर्वक पूरा करती है। गुंजन सक्सेना को मिशन और युद्ध के बाद, उसे अपने साहस और बहादुरी के लिए पुरस्कृत किया जाता है, पिता अनूप, भाई अंशुमान और माँ को गुंजन पर गर्व महसूस होता है।

GUNJAN SAXENA: The Kargil Girl watch Online (Story)

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी | Fact from around the world that you wont believe.

अमिताभ बच्चन ने शत्रुघ्न सिन्हा की तब तक की थी पिटाई जब तक बचाने नहीं आये शशि कपूर 

कभी अभिनेत्री तब्बू की साड़ियां प्रेस किया करते थे निर्देशक रोहित शेट्टी, ३५ रूपये से ३०० करोड़ तक ऐसे तय किया सफर 

अनिल कपूर को हीरो बनने के लिए लेने पड़े थे पैसे उधार, इन दोनों कलाकारों ने की थी मदद

जब जया बच्चन को डॉक्टरों ने अमिताभ से आखिरी बार मिल लेने को कहा

Leave a Reply