January 20, 2021

सदियों से सोना उगल रही है स्वर्ण रेखा नदी, जिसका रहस्य अब तक नहीं सुलझा

किसी नदी के बारे में यह बात सुनने में थोड़ी अजीब जरूर लगती है, लेकिन हमारे देश में ‘स्वर्ण रेखा नदी’ नामक एक ऐसे नदी है जिसकी रेत से सैकड़ों साल से सोना निकाला जा रहा है| हालांकि, आज तक रेत में सोने के कण मिलने की सही वजह का पता नहीं लग पाया है| तो चलिए इसके बारे में विस्तार में जानते है|

ajab-jankari-swarn-rekha-nadi-goldस्वर्ण रेखा नदी

इस नदी को कहीं-कहीं सुबर्ण रेखा के नाम से भी पुकारा जाता है| स्वर्ण रेखा नदी का उद्गम रांची से करीब १६ किमी दूर है, जिसकी लम्बाई कुल ४७४ किमी है| भूवैज्ञानिकों का मानना है कि नदी तमाम चट्टानों से होकर गुजरती है| इसी दौरान घर्षण की वजह से सोने के कण इसमें घुल जाते है| आपको बतादें, कि ये नदी देश के झारखण्ड, पक्षिम बंगाल और ओडिशा के कुछ इलाकों में बहती है|

ajab-jankari-swarn-rekha-nadi-goldस्वर्ण रेखा नदी और उसकी एक सहायक नदी करकरी की रेत में सोने के कण पाए जाते है| कुछ लोगों का कहना है कि स्वर्ण रेखा में सोने के कण, करकरी नदी से ही बहकर पहुँचता है| वैसे बता दें कि करकरी नदी की लम्बाई केवल ३७ किमी ही है| आज तक यह रहस्य नहीं सुलझ पाया कि इन नदियों में आखिर कहाँ से सोने के कण आते है|ajab-jankari-swarn-rekha-nadi-goldझारखण्ड में तमाड़ और सारंडा जैसी जगहों पर नदी के पानी में स्थानीय आदिवासी रेत को छानकर सोने के कण इकठ्ठा करने का काम करते है| इस काम में कई परिवारों की पीढ़ियां लगी हुई है| आमतौर पर एक व्यक्ति दिनभर काम करने के बाद सोने के एक या दो कण निकाल पाता है|

अमिताभ बच्चन ने शत्रुघ्न सिन्हा की तब तक की थी पिटाई जब तक बचाने नहीं आये शशि कपूर 

ajab-jankari-swarn-rekha-nadi-goldइस बेहद धैर्य और मेहनत के काम में एक व्यक्ति महीने भर में ६०-८० सोने के कण निकाल पाता है| हालांकि किसी महीने यह संख्या ३० से कम भी हो सकती है| ये सोने के कण चावल के दाने या उससे थोड़े बड़े होते है| रेत से सोने के कण छानने का काम सालभर होता है| सिर्फ बाढ़ के दौरान दो माह तक काम बंद हो जाता है| ajab-jankari-swarn-rekha-nadi-goldरेत से सोना निकालने वालों को एक कण के बदले ८० से १०० रुपये तक मिलते है| हालांकि बाजार में एक कण की कीमत करीब ३०० रुपयों से ज्यादा ही होती है| स्थानीय दलाल और सुनार सोना निकालने वाले लोगों से ये कण खरीदते है| कहा जाता है कि यहाँ के आदिवासी परिवारों से सोने के कण खरीदने वाले दलाल और सुनारों ने इस कारोबार से करोड़ों की संपत्ति बनाई है|
ajab-jankari-swarn-rekha-nadi-gold
झारखण्ड के जिस इलाके में सोने के कण को निकालने का काम किया जाता है, वह बेहद जंगली इलाका है| ये नक्सलियों के गढ़ के रूप में भी कुख्यात है| भले ही सोने के कण निकालने वाले आदिवासियों की आर्थिक हालत बदतर हो, लेकिन काम में सक्रीय दलाल और सुनारों ने इससे काफी संपत्ति बनाई है| ajab-jankari-swarn-rekha-nadi-goldदोस्तों, अगर आपको हमारी यह पोस्ट ‘सदियों से सोना उगल रही है स्वर्ण रेखा नदी, जिसका रहस्य अब तक नहीं सुलझा’ अच्छी लगी हो तो इसे जरूर लाइक और शेयर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में लिखकर इसके बारे में लोगों को भी जरूर बताइयेगा|

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी | Fact from around the world that you wont believe.

अपनी ही शादी में बेहोश हो गए थे ऋषि कपूर और नीतू सिंह

चाय ना मिलने पर अभिनेता अमजद खान ने कर दी थी ऐसी हरकत

जब देवानंद को एक सीन में गाली देकर भाग गए थे किशोर कुमार

आखिर क्यों किशोर कुमार आधा सिर मुंडवाकर पहुंचे थे शूटिंग पर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *