September 24, 2021

परीक्षा में फेल होने का विश्व रिकॉर्ड

परीक्षा में फेल होने का विश्व रिकॉर्ड  

किसी भी परीक्षा में फेल हो जाने के बाद आप कितनी बार वापस उस परीक्षा को देंगे, एक बार, दस बार, सौ बार, या फिर हज़ार बार, हो गये न हैरान दोस्तों ? जी हाँ, आज हम आपको एक ऐसी महिला के बारे में बतायेंगे, जिन्होंने परीक्षा देने में भी हद पार कर दी जो की एक विश्व रिकॉर्ड भी है|

ajab-jankari-world-record-failiure-परीक्षा में फेल

साउथ कोरिया में रहने वाली इस महिला का नाम है चा सा-सून, जिन्होंने 2009 में अपने ड्राइविंग की लिखित परीक्षा दी और उसमे पास हो गयी थी और ये उनकी जिंदगी का सबसे बड़ा दिन था| होता कैसे नहीं दोस्तों इसी महिला ने 2005 में किसी तरह से अपने 10वे प्रयास में ड्राइविंग टेस्ट तो पास कर लिया था पर वो लिखित परीक्षा में फेल हो गयी|

ajab-jankari-world-record-failiure

फेल होने के बावजूद अगले दिन फिर वो लिखित परीक्षा देने आ गयी, पर इस बार फिर वो फेल हो गयी| ऐसे वो हर दिन परीक्षा देने आती और हर दिन फेल हो जाती| इन परीक्षाओं में इन्होंने कुल 2.5 लाख रुपये भी खर्च कर लिये| आख़िरकार चा की मेहनत रंग लायी | इस बार अपने 771 वी परीक्षा में वो पास हो गयी| अब इसे मेहनत कहे या बेवकूफी, पर चा का नाम अब ‘गिनिस बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड्स’ में दर्ज हो चूका है, जो की एक अनोखा विश्व रिकॉर्ड है|

ajab-jankari-world-record-failiure68 वर्षीय ये महिला अपने लिए एक गाड़ी लेना चाहती थी, क्यूंकि वो घर-घर जाकर खाने के और घर की जरूरतों के सामान बेचा करती थी। गाड़ी लेने से उनके बिज़नेस में बढ़ोत्तरी हो सकती थी। इतनी बार फेल होने के बावजूद चा का कहना था कि “मेरा मानना है कि आप अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं यदि आप लगातार इसका पीछा करते हैं,” वह कहती हैं। “तो मेरे जैसे अपने सपने को मत छोड़ो। मजबूत बनो और अपना सर्वश्रेष्ठ करो। ”
यक़ीनन, इनके जज्बे के लिए एक सलाम तो बनता ही है।

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी | Fact from around the world that you wont believe.

दुनिया का सबसे खूबसूरत इस गाँव में नहीं है सड़कें

७ अजूबों में शामिल करने लायक है ये जगहें – फिर भी नहीं है शामिल

गूगल में काम करने का लोग देखते है सपना, मरने के बाद भी मिलती है सैलरी

दुनिया का सबसे मीठा फल जो डाइबिटीज वालों के लिए है वरदान

Leave a Reply