April 22, 2021

जंगमवाड़ी मठ – जहाँ अपनों की मृत्यु पर दान करते है शिवलिंग

हमारे देश में विभिन्न प्रकार की परंपराओं का पालन किया जाता है| मगर आज हम आपको जंगमवाड़ी मठ की उस परंपरा के बारे में बताने जा रहे है, जिसके बारे में शायद किसी ने सुना या देखा होगा| चलिए इसके बारे में जानते है|

ajab-jankari-jangamwadi-math-varanasi-जंगमवाड़ी मठ

वाराणसी में स्थित ‘जंगमवाड़ी मठ’ यहाँ का सबसे पुराना मठ है| जंगम का अर्थ होता है ‘शिव को जानने वाला’ और वाड़ी का अर्थ होता है ‘रहने का स्थान’| ये मठ करीब ५ हजार स्क्वायर फ़ीट में फैला हुआ है| राजा जयचंद द्वारा दान की गयी भूमि पर बसे इस मठ में अब ८६ जगतगुरु हो चुके है| जो अपनी इस परंपरा को आगे बढ़ा रहे है| इस मठ में शिवलिंगों की स्थापना को लेकर एक विचित्र परंपरा चली आ रही है| यहाँ आत्मा की शान्ति के लिए पिंडदान नहीं बल्कि शिवलिंग का दान होता है|

ajab-jankari-jangamwadi-math-varanasi-जंगमवाड़ी मठ

‘जंगमवाड़ी मठ’ में मृत लोगों की मुक्ति और आत्मा की शान्ति के लिए शिवलिंग स्थापित किये जाते है| कई सालों से चली आ रही इस परंपरा के चलते यहाँ एक दो नहीं बल्कि १० लाख से भी ज्यादा शिवलिंग स्थापित किये जा चुके है| हिन्दू धर्म में जिस तरीके से और विधि-विधान से पिंड का दान किया जाता है| ठीक उसी तरह से मंत्रोचारण के साथ यहां शिवलिंग स्थापित किया जाता है|

ajab-jankari-jangamwadi-math-varanasiयह भी पढ़ें :

इस अधूरे निर्मित मंदिर में है दुनिया का सबसे विशालकाय शिवलिंग

एक वर्ष में कई हजार शिवलिंगों की स्थापना श्रद्धालुओं द्वारा यहाँ की जाती है और जो शिवलिंग ख़राब अवस्था में होने लगते है उनको मठ में ही सुरक्षित स्थान पर रख दिया जाता है| शिवलिंग दान के अलावा जब यहाँ कोई महिला पांच महीने के पेट से होती है तब उसके कमर में बच्चे की रक्षा के लिए छोटा सा शिवलिंग बांधा जाता है|
ajab-jankari-jangamwadi-math-varanasi-जंगमवाड़ी मठ

इतना ही नहीं बच्चे के जन्म के कुछ महीनों बाद वहीँ शिवलिंग गले में बांधा जाता है और माँ दूसरा शिवलिंग धारण कर लेती है, जो जीवनभर उसके साथ रहता है| ‘जंगमवाड़ी मठ’ दक्षिण भारतियों का है| जिस तरह से हिन्दू धर्म में लोग अपने पूर्वजों के लिए पिंडदान किया करते है, उसी तरह से वीरशैव संप्रदाय के लोग अपने पूर्वजों की मुक्ति के लिए शिवलिंग का दान करते है|

ajab-jankari-jangamwadi-math-varanasiपिछले करीब २५० सालों से चली आ रही इस अनवरत परंपरा में सबसे ज्यादा सावन के महीनों में शिवलिंगों की स्थापना होती है|
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह जानकारी ‘ये है ‘जंगमवाड़ी मठ’ जहाँ अपनों की मृत्यु पर दान करते है शिवलिंग’ अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दीजियेगा|

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी | Fact from around the world that you wont believe.

अजीबोगरीब है ये झीलें जो लोगो को करती है हैरान

भारत में यहाँ स्थित है जुड़वा लोगों का गाँव

चाँद बावड़ी – सच में अदभुद है यह बावडी

दुनिया के सबसे खतरनाक स्विमिंग पूल

Leave a Reply