November 28, 2022

आखिर क्यों Dilip Kumar Ne Sholay Film में ठाकुर के रोल के लिए किया था इनकार

आखिर क्यों Dilip Kumar Ne Sholay Film में ठाकुर के रोल के लिए किया था इनकार

बॉलीवुड की बेहद मशहूर Sholay Film की अगर बात करें तो इस फिल्म में ऐसे कई यादगार किरदार थे जो इस फिल्म को सुपर-डुपर हिट बनाने में अहम भूमिका निभाई थी। फिल्म में ऐसा ही एक किरदार ठाकुर का था, जिसके इर्द-गिर्द पूरी फिल्म की कहानी थी। फिल्म में इस किरदार को संजीव कुमार ने निभाया था, मगर संजीव कुमार के पहले दिलीप कुमार को इस रोल का ऑफर दिया गया था। लेकिन, Dilip Kumar Ne Sholay Film में ठाकुर के रोल के लिए इनकार कर दिया।

why-dilip-kumar-refused-to-play-thakur-in-sholay

रमेश सिप्पी के निर्देशन में बनी फिल्म ‘शोले’ साल १९७५ के अगस्त के महीने में रिलीज़ हुई थी। इस फिल्म को रिलीज़ हुए अब तक़रीबन ४४ साल बीत चुके है, मगर आज भी लोग इस फिल्म को देखना पसंद करते है। एक ज़माना ऐसा भी था कि लोगों की जुबान पर शोले फिल्म का एक-एक डायलॉग रहा करता था।

क्यों राज कपूर की बेटी को बहु बनाना चाहती थी इंदिरा गांधी

Sholay Film की कहानी लिखने वाले सलीम-जावेद की जोड़ी ने अपने जीवन से जुडी कई घटनाओं को इस फिल्म का हिस्सा बनाया था। इतना ही नहीं इस फिल्म के किरदारों के नाम भी सलीम साहब ने अपने जानने वालों के नाम पर रखा था। फिल्म में शादी का सीन जावेद अख्तर की शादी के प्रस्ताव से प्रेरित था।

why-dilip-kumar-refused-to-play-thakur-in-sholay

Sholay Film में काम करने वाले सभी कलाकारों में सभी गब्बर का किरदार ही करना चाहते थे, मगर सभी को सख्त लहजे में ये समझा दिया गया कि किस कलाकार को किसका रोल करना है। 

स्मिता पाटिल को अमिताभ के Coolie Accident से पहले हुआ था आभास

ऐसे में बात अगर ठाकुर के किरदार की करें तो ये रोल सबसे पहले मशहूर अभिनेता Dilip Kumar साहब को ऑफर किया गया था। लेकिन दिलीप कुमार ने इस रोल को करने से मना कर दिया। दिलीप साहब का कहना था कि ठाकुर के किरदार में वेरायटी नहीं है। बाद में इसी किरदार को अभिनेता संजीव कुमार ने अपने अभिनय से अमर बना दिया। 

why-dilip-kumar-refused-to-play-thakur-in-sholayठाकुर के इस किरदार के लिए अभिनय ना करने का अफ़सोस Dilip Kumar साहब को बाद में हुआ। Dilip Kumar से एक इंटरव्यू में जब ये पूछा गया कि क्या इनके पूरे फ़िल्मी करियर में इन्हें किसी फिल्म में काम ना करने का मलाल है? तो इसके जवाब में दिलीप कुमार ने चार फिल्मों के नाम लिए थे, जो हिंदी सिनेमा के इतिहास में अपना नाम सुनहरे अक्षरों से लिखी जा चुकी थी। इन फिल्मों के नाम थे बैजू बावरा, गुरुदत्त की प्यासा, अमिताभ की जंजीर और शोले। 

क्यों मेहमूद के पैरों पर गिरकर रो पड़े थे Amitabh Bachchan

दोस्तों, अगर आपको हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दीजियेगा और बताइयेगा जरूर कि फिल्म शोले में आपका पसंदीदा किरदार कौन सा है? 

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी |  Fact from around the world that you wont believe.

Leave a Reply