July 29, 2021

चुगलखोर का मकबरा – जहाँ चादर नहीं जूते बरसाते है लोग

चुगलखोर का मकबरा – जहाँ चादर नहीं जूते बरसाते है लोग

आपने इस दुनिया में ऐसे तमाम मकबरों और मजारों के बारे में सुना होगा जहाँ लोग दुआ मांगने के लिए जाते है| अगर मन्नत पूरी हुई तो उस मजार पर चादर और फूल भी चढ़ाते है| मगर आज हम आपको चुगलखोर का मकबरा के बारे में बताने जा रहे है जहां चादर और फूल नहीं बल्कि जूते और चप्पल से मारते है|

chugalkhor-ka-makbara-near-etawah-uttar-pradesh-चुगलखोर का मकबराउत्तर प्रदेश के इटावा के पास स्थित इस मकबरे का बड़ा ही अजीब नाम है, इसे चुगलखोर का मकबरा कहते है| लोग यहाँ अपनी दुआ कबूल होने पर जूते और चप्पल मारने आते है| इस जगह पर सिर्फ वही लोग ज्यादा आते है जो इटावा-फर्रुखाबाद-बरेली की तरफ आते-जाते रहते है| अपनी यात्रा को सुरक्षित करने के लिए श्रद्धालु मकबरे पर जूते और चप्पलों की बरसात किया करते है|

chugalkhor-ka-makbara-near-etawah-uttar-pradesh-चुगलखोर का मकबरा
जूता बरसाने या मारने के पीछे ऐसी मान्यता है कि इस मार्ग पर भूतों का साया है| ऐसे में खुद को किसी दुर्घटना से बचाने के लिए और अपने परिवार की सुखद यात्रा के लिए यहाँ के स्थानीय निवासी भोलू सैय्यद की कब्र पर जूते मारते है|

Krubera Cave – Dharti Ki Sabse Gehri Gufa | यह है धरती की सबसे गहरी गुफा

यह कब्र करीब ५०० साल पुरानी है और इसके पीछे एक बेहद लोकप्रिय कहानी प्रसिद्ध है| कहते है कि एक बार इटावा के बादशाह ने अटेरी के राजा के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया था क्यूंकि उन्हें ऐसा लगता था कि अटेरी के राजा उनके लिए अपने मन में गलत भावना रखते है|
बादशाह को बाद में इस बात का पता चला कि ये सब एक ग़लतफ़हमी थी जिसका कारण भोलू सैय्यद था| भोलू की चुगलखोरी की वजह से यह सब हुआ था| गुस्से में बादशाह ने हुक्म दिया कि भोलू को जूते और चप्पलों से तब तक मारा जाय जब तक उसकी मौत ना हो जाए| भोलू सैय्यद की मौत के बाद भी जूते मारने का सिलसिला आज भी चल रहा है| आपको बता दें कि दुर्घटना से सुरक्षित रहने के लिए इस कब्र पर कम से कम ५ जूते मारना आवश्यक है|
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में लिखकर अपनी प्रतिक्रिया जरूर व्यक्त कीजियेगा|

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी |  Fact from around the world that you wont believe.

पिग्मी मार्मोसेट – ये है दुनिया का सबसे छोटा बंदर जिसका वजन होता है महज १०० ग्राम

दुनिया का सबसे मीठा फल जो डाइबिटीज वालों के लिए है वरदान 

ये है मृत सागर – जिसमे कोई जीव नहीं रहता जिन्दा और ना डूबता है कोई 

कूबर पेडी – जमीन के नीचे बसा है ये गाँव, जो है बेहद खूबसूरत 

Leave a Reply