July 29, 2021

Hampi Vittala Mandir जिसके रहस्यमयी पत्थरों से निकलता है संगीत

Hampi Vittala Mandir जिसके रहस्यमयी पत्थरों से निकलता है संगीत

किसी भी देश की संस्कृति को समझने के लिए उस देश का इतिहास समझना भी जरुरी होता है| हमारे भारत देश के इतिहास को समझने पर हमें पता चलता है कि हमारी संस्कृति और कलाकृति कितनी महान और गौरवशाली है| आज हम आपको ऐसे ही एक Hampi Vittala Mandir में बनी अद्भुत कला का उदहारण बताने जा रहे है, जिसके रहस्यमयी पत्थरों में से संगीत निकलता है|
hampis-vittala-temple-of-mysterious-musical-pillars-Hampi Vittala Mandirकर्नाटक के हम्पी नामक जगह में हेमकुटा पहाड़ियों पर बने विट्टल मंदिर में इस मंदिर का निर्माण राजा कृष्णदेव राय के शासनकाल में किया गया था|

हरनाम कौर – महिलाओं के लिए मिसाल है दाढ़ी-मूंछ वाली ये लड़की

इस मंदिर में मौजूद ५६ खम्बों के रहस्यों को आज तक कोई सुलझा नहीं पाया है| इन खूबसूरत नक्काशी वाले खम्बों को म्यूजिकल पिलर के नाम से भी जाना जाता है| शायद यकीन करना थोड़ा मुश्किल हो मगर बता दें कि इन खम्बों को कुछ इस तरह से बनाया गया है कि इन्हें थपथपाने पर इनमें से संगीत निकलता है|
hampis-vittala-temple-of-mysterious-musical-pillars-Hampi Vittala Mandir
बता दें कि भारत पर हुकूमत करते समय अंग्रेजों को भी इन खम्बों ने हैरान कर दिया था| वो भी इन खम्बों के रहस्य को जानना चाहते थे| उन्हें लगा कि इन खम्बों के अंदर कुछ तो है जिसकी वजह से इसमें से संगीत निकलता है| इसकी जांच करने के लिए अंग्रेजों ने यहां के दो खम्बों को तोड़कर इस पर अभ्यास भी किया मगर उनके हाथ ऐसा कुछ भी नहीं लगा, जिनसे इन खम्बों से आवाज़ आती हो|
hampis-vittala-temple-of-mysterious-musical-pillars-Hampi Vittala Mandirवैज्ञानिकों की शोध से यह पता चला है कि इन खम्बों को बनाने के लिए इनमें ग्रेनेट, सिलिकेट पार्टिकल और जिओपॉलिमर का इस्तेमाल किया गया था| मगर वैज्ञानिकों को आश्चर्य इस बात का है कि दुनिया के सबसे पहले जियोपॉलिमर की खोज साल १९५० में सोवियत यूनियन में हुई थी| जिसका मतलब यह है कि भारत में १६ वी शताब्दी में ही इस मंदिर को बनाने वाले वास्तुकारों को जियोपॉलिमर की जानकारी थी|
hampis-vittala-temple-of-mysterious-musical-pillars-Hampi Vittala Mandir
आज के समय में कई वैज्ञानिकों द्वारा कई जियोपॉलिमर की सहायता से ऐसे स्तंभ बनाने की कोशिश की गयी मगर वैसे स्तंभ नहीं बना पाए जैसे १६ वी सदी में हमारे भारतीय वास्तुकारों ने कर दिखाया था| मंदिर के यह स्तंभ प्राचीन भारतीय इंजीनियरिंग कौशल की जीती जागती मिशाल है जिस पर हम भारतीयों को गर्व होना चाहिए|
hampis-vittala-temple-of-mysterious-musical-pillarsयहां मंदिर के परिसर में रखा गया एक रथ है, जो यहां आने वाले पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है| जिसे बनाने के लिए इंटरलॉक मेकेनिज़म का इस्तेमाल किया गया था| जिसकी वजह से बेहद वजनदार होने के बावजूद इस रथ के एक-एक हिस्से को अलग करके एक जगह से दूसरी जगह ले जाता जा सकता है| गरुण की छबि में बना यह रथ भगवान विष्णु का वाहन माना जाता है|
hampis-vittala-temple-of-mysterious-musical-pillars
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में लिखकर अपनी प्रतिक्रिया जरूर व्यक्त कीजियेगा|

Leave a Reply