July 29, 2021

Agra Fort – भारत के इस किले में कभी हुआ करता था कोहिनूर हीरा

Agra Fort – भारत के इस किले में कभी हुआ करता था कोहिनूर हीरा

वैसे तो भारत में ऐसे कई किले है जो अपनी नायाब बनावट और ख़ूबसूरती के लिए बेहद प्रसिद्ध है| सात अजूबों में शामिल आगरा का ताजमहल दुनिया में सच्चे प्यार की निशानी के तौर पर जाना जाता है| मगर ताजमहल से मात्र 1.5 किमी की दूरी पर स्थित Agra Fort (आगरा का किला) भी यहाँ आने वाले पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहा है|
history-of-badalgarh

Agra Fort (आगरा का किला)

आगरा के इस किले को पहले बादलगढ़ के नाम से जाना जाता था| मगर उस समय इस किले की अवस्था काफी ख़राब थी| लेकिन Akbar ने इस किले के महत्त्व को जाना और इस किले को लाल पत्थरों से दोबारा बनवाया|

हरनाम कौर – महिलाओं के लिए मिसाल है दाढ़ी-मूंछ वाली ये लड़की

साल 1638 में इस किले का निर्माण मुग़ल बादशाह शाहजहां ने करवाया था| जिसके बाद कई दफा मुगलों द्वारा Agra Fort में कई तरह के बदलाव किये गए थे| बता दें कि इस किले के वास्तुकार उस्ताद अहमद लाहौरी ने इसे Design किया था, जिन्होंने आगरा की शान ताजमहल जैसी महँ कृति को भी Design किया था|
history-of-badalgarh
किले को बनाने में करीब 10 साल का समय लगा था और ये साल 1648 में पूरा हुआ था| किले को बनाने में कुशल कारीगरी का प्रयोग किया गया| हिंदू पक्ष के अनुसार लाल किले का वास्तविक नाम लाल कोट है जिसे पृथ्वीराज चौहान ने बनवाया था| कुछ लोग यह भी मानते है कि इसे पृथ्वीराज चौहान के नाना अनंगपाल तोमर द्वारा सन 1060 ईस्वी में बनवाया गया था|

हाथी के लीद से बनती है Duniya Ki Sabse Mehangi Coffee

दुनिया का सबसे बेशकीमती हीरा जिसे KOHINOOR हीरा कहते है, कभी शाहजहां के ताज का एक भाग हुआ करता था| इस ताज को पहनकर शाहजहां दीवाने-ए-ख़ास में बैठा करते थे| शाहजहां के बाद औरंगजेब तथा हुमायूं ने अपने राज्य के इस अमूल्य हीरे की सुरक्षा की है|
history-of-badalgarh-fort-Agra-Fortलाल किले के दो प्रवेश द्वार है दिल्ली गेट और लाहौर गेट, जिसमे मुख्य प्रवेश द्वार को लाहौर गेट कहा जाता है| इसके अलावा इस किले में और भी कई दर्शनीय स्थल है|

history-of-badalgarh-fort-Agra-Fort
लाहौरी दरवाजा

यह किले का मुख्य दरवाजा है, जिसका मुख लाहौर की होने से इसे ये नाम दिया गया| साल 1947 में भारत को आजादी मिलने के बाद हर साल इसी जगह पर ध्वजारोहण किया जाता है|

history-of-badalgarh-fort-दिल्ली दरवाजा

यह दरवाजा किले के दक्षिणी भाग में स्थित है| ये देखने में बिलकुल लाहोरी दरवाजे की तरह है, जिसके दोनों तरफ पत्थर के विशाल हाथी बने हुए है| इसे औरंगजेब के द्वारा तोड़ दिया गया था| फिर बाद में साल 1903 में लार्ड के द्वारा फिर से बनवाया गया था|

history-of-badalgarh-fort-
नौबत खाना

लाहौर गेट के पूर्वी ओर स्थित यह महल संगीतकारों के लिए विशेष रूप से बनाया गया था, जहाँ रात के समय संगीत संध्या आयोजित की जाती थी|

history-of-badalgarh-fort-दीवान-ए-आम

करीब 540 feet चौड़े ओर 40 feet गहरी इस जगह पर राजा अपना फैसला लिया करते थे| ये उस ज़माने में मुख्य कोर्ट के रूप में इस्तेमाल हुआ करता था|

history-of-badalgarh-fort-
दीवान-ए-ख़ास

दीवान-ए-आम के उत्तरी ओर दीवान-ए-ख़ास बनाया गया था| इसे संगमरमर और बहुमूल्य पत्थरों से बनाया गया था, जिसमे सिर्फ राजा रहा करते थे|

history-of-badalgarh-fort-मोती मस्जिद

साल 1659 में इस मस्जिद को औरंगजेब ने बनवाया था, जो उनकी निजी मस्जिद हुआ करती थी| आपको बता दें कि इस किले पर दिसंबर 2000 में लश्कर-ए-तोएबा के आतंकवादियों द्वारा हमला भी हुआ था, जिसमें दो सैनिक और एक नागरिक की मृत्यु भी हुई थी| साल 2007 में यूनेस्को ने लाल किले के महत्त्व और इतिहास को देखते हुए उसे वर्ल्ड हेरिटेज साइट घोषित किया था|
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में लिखकर अपनी प्रतिक्रिया जरूर दीजियेगा|

Leave a Reply