December 7, 2021

Real Story of Nirma Girl – निरमा वाशिंग पाउडर के पैकेट बनी लड़की की ये है सच्चाई

Real Story of Nirma Girl – निरमा वाशिंग पाउडर के पैकेट बनी लड़की की ये है सच्चाई

एक समय था जब टेलीविज़न महज दो-चार चैनलों के बीच अटका हुआ था| तब चल रहे कार्यक्रमों के बीच बड़े कम विज्ञापन दिखाए जाते थे| उन विज्ञापनों में से एक निरमा वाशिंग पाउडर के विज्ञापन तो आज भी लोगों के जहन और जुबान पर है| आज भी लोग वाशिंग पाउडर निरमा का वो गाना गुनगुनाते है| निरमा पाउडर के पैकेट पर एक लड़की की सफ़ेद फ्रॉक पहने हुए तस्वीर सबको याद होगी, मगर क्या आपने कभी यह जानने की कोशिश की है कि असल में यह लड़की है कौन? तो चलिए आज हम आपको बताते है Real Story of Nirma Girl के बारे में|

real-story-who-is-nirma-girl-what-is-her-story-truth-behind-nirma-washing-powder-poster-girl

Real Story of Nirma Girl

साल 1969 में गुजरात में रहने वाले करसन भाई पटेल ने निरमा वाशिंग पाउडर नामक अपनी एक छोटी सी कंपनी की शुरुवात की थी| करसन भाई की एक बेटी थी, जिसका नाम निरुपमा था| हर एक पिता की तरह करसन भाई भी अपनी बेटी से बेहद प्यार करते थे और उसे निरमा नाम से पुकारा करते थे| मगर किस्मत पर आज तक किसका जोर चला है|
karsanbhai-patel
एक सफर के दौरान करसन भाई की बेटी निरुपमा का एक्सीडेंट हो गया और उसकी मौत हो गयी| निरुपमा की मौत से करसन भाई की अपनी बेटी के बड़ा होने पर उसके खूब नाम कमाने की सारी ख्वाहिशें भी टूट के रह गयी| लेकिन करसन भाई निरमा को अमर करने की ठान ली थी, जिसकी वजह से उन्होंने निरमा वाशिंग पाउडर की शुरवात की और वाशिंग पाउडर पर अपनी बेटी निरमा की तस्वीर लगानी शुरू कर दी|
real-story-who-is-nirma-girl-what-is-her-story-truth-behind-nirma-washing-powder-poster-girl
90 के दशक में जहां सर्फ़ की कीमत 15 रुपये प्रति किलो थी, वहीँ करसर भाई ने निरमा पाउडर को 3.5 रुपये में बेचना शुरू किया| धीरे-धीरे निरमा को लोग जानने लगे| नौकरी करने वाले करसन भाई दफ्तर जाने के दौरान रास्ते में लोगों के घरों में निरमा पाउडर बेचा करते थे| एक समय ऐसा आया कि उन्होंने अपनी नौकरी छोड़कर पूरा ध्यान निरमा पर लगा दिया|

Agra Fort – भारत के इस किले में कभी हुआ करता था कोहिनूर हीरा

करसन भाई ने अपने इस प्रोडक्ट को बेचने के लिए कुछ लोगों की टीम तैयार कर ली थी, जो मार्किट में निरमा पाउडर को बेचते थे| मगर रास्ता आसान नहीं था| उधारी में माल लेने वाले दूकानदार पैसे मांगने पर बहाने बनाने लगे| तब करसन भाई ने अपनी टीम से बाजार में जितने निरमा पैकेट थे उन्हें वापस ले आने के लिए कहा| सबको लगा करसन भाई हार मान चुके है और निरमा पाउडर अब बंद होने वाला है| लेकिन करसन भाई ने निरमा पाउडर के लिए विज्ञापनों में निवेश करने की ठान ली थी|
who-is-nirma-girl-what-is-her-story-truth-behind-nirma-washing-powder-poster-girl
अपने शानदार विज्ञापन की वजह से निरमा पाउडर अब सिर्फ गुजरात में नहीं बल्कि पूरे देश में जाना जाने लगा और अपनी पहचान बना ली| करसन भाई पटेल ने अपनी बेटी निरुपमा यानी निरमा को अमर बनाने का सपना साकार किया|
karsanbhai-patel
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में लिखकर लोगों को भी जरूर बताये|

Leave a Reply