December 7, 2022

इस मंदिर में रखा है भीम का ढोल और विशाल गेंहु का दाना

इस मंदिर में रखा है भीम का ढोल और विशाल गेंहु का दाना

हमारे भारत में ही नहीं पूरी दुनिया हिमाचल प्रदेश अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए काफी मशहूर है| प्रकृति की सुंदरता के साथ-साथ यहाँ कई सारे प्राचीन मंदिर भी है| आज हम आपको ऐसे ही एक प्राचीन मंदिर के बारे में बताने जा रहे है, जहाँ भीम का ढोल और एक विशाल गेंहु का दाना आज भी मौजूद है, जो यहाँ काफी प्रसिद्द है|
bhim-ka-dhol-भीम-का-ढोल

भीम का ढोल

हिमाचल की कारसोंग घाटी में स्थित इस मंदिर का नाम ममलेश्वर मंदिर है| यह भगवान शिव और माता पार्वती को समर्पित है| इस मंदिर में एक विशालकाय ढोल रखा हुआ है| इस ढोल की लंबाई 2 मीटर और ऊँचाई 3 फ़ीट है| यहाँ के स्थानीय निवासियों का ऐसा कहना है की यह ढोल महाभारत के समय से यहाँ रखा हुआ है| इस ढल के बारे में कहा जाता है की ये ढोल महाबलशाली भीम का है|
bhim-ka-dhol-भीम-का-ढोल
लोगों का ऐसा मानना है कि अज्ञातवास के समय पांडवों ने इस स्थान पर कुछ वक्त बिताया था| ऐसा कहा जाता है कि जब भीम अकेले होते थे तब इस ढोल को बजाया करते थे|
bhim-ka-dhol-भीम-का-ढोल

विशाल गेंहु का दाना

इतना ही नहीं, इस मदिर में इस ढोल के अलावा एक गेहूं का दाना भी रखा हुआ है, जिसका वजन लगभग 250 ग्राम है| कहा जाता है कि इस गेहूं को पांडवों ने उगाया था|
bhim-ka-dhol-भीम-का-ढोल
आपको बता दें कि ममलेश्वर मंदिर में एक अग्निकुंड भी है जो करीब पांच हजार सालों से लगातार जल रहा है| इस अग्निकुंड के बारे में एक कहानी भी प्रचलित है| ऐसा माना जाता है कि अज्ञातवास के दौरान पांडव यहाँ कुछ समय तक ठहरे थे| उस दौरान गांव में एक राक्षस ने पास में स्थित एक गुफा में अपना डेरा जमाया हुआ था|
इस मंदिर में रखा है भीम का ढोल और विशाल गेंहु का दाना
राक्षस के प्रकोप से बचने के लिए गांववालों ने एक समझौता किया था कि वो प्रतिदिन एक इंसान को राक्षस के पास भोजन स्वरुप भेजेंगे| एक दिन उस लड़के की बारी आयी जिसके घर पांडव रुके हुए थे| ऐसे में लड़के की माँ को रोता हुआ देखकर, पांडवों ने इसका कारण जाना और भीम को उस राक्षस के पास भेजने का निर्णय लिया|
इस मंदिर में रखा है भीम का ढोल और विशाल गेंहु का दाना
ऐसे में भीम ने गुफा ने जाने के बाद युद्ध करके उस राक्षस को मारकर गांववालों को उसके डर से मुक्त किया| इस जीत की याद में भीम ने इस अग्निकुंड को प्रज्ज्वलित किया जो आज भी जल रहा है| सबसे जरुरी बात, ममलेश्वर मंदिर पुरातात्विक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है| यहाँ रखी हुई चीजों के अति प्राचीन होने पुष्टि हो चुकी है|
दोस्तों, अगर आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो कृपया इसे शेयर और लाइक जरूर कीजियेगा और कमेंट बॉक्स में इसके बारे में लिखकर लोगों को भी जरूर बताएं|

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी |  Fact from around the world that you wont believe.

The Old Man – दुनिया के कई रहस्यों में एक, जो सुलझा नहीं पाया कोई

पिग्मी मार्मोसेट – ये है दुनिया का सबसे छोटा बंदर जिसका वजन होता है महज १०० ग्राम

भारत के इन मंदिरों में मिलता है अजब गजब प्रसाद

ये है दुनिया के सबसे अजीब और विचित्र रेस्टोरेंट

Leave a Reply