June 25, 2024

म्यूजिक किंग Gulshan Kumar की ऐसे की गयी थी दर्दनाक हत्या

अगर फर्श से अर्श की बात की जाय तो जिस तरह से इन्होंने सफलता पायी है शायद ही बॉलीवुड में किसी को ऐसी सफलता नसीब हुई होगी। ये बॉलीवुड में आज सबसे बड़ा नाम रखते है और जितने बड़े ये थे उनसे कई ज्यादा बड़ा इनका दिल था। अक्सर जहां पैसा आने के बाद इंसान खुद के बारे में सोचता है और खुद के परिवार के बारे में सोचता है। वही जब इनके पास दौलत आयी तो इन्होंने उन लोगों की मदद की जिनका कोई नहीं है।

जी हां, आज हम बात कर रहे है उस धर्मात्मा इंसान की जिनका नाम है Gulshan Kumar। हर कोई ये जानता है कि गुलशन कुमार एक बड़े धर्मात्मा इंसान थे, मगर एक समय ऐसा भी आया कि इनका संपर्क बुरे लोगों के साथ हुआ।

Gulshan Kumar

Gulshan Kumar (Biography)

5 मई 1956 के दिन दिल्ली में जन्मे Gulshan Kumar बचपन में अपने पिता चंद्रभान कुमार दुआ के साथ उनकी जूस की दूकान में बैठा करते थे। इसके बाद उनके पिता ने एक बड़ी दुकान ले ली, जहां वो ऑडियो कैसेट और टेप रिकॉर्डर ठीक करने का काम करते थे। धीरे-धीरे उन्होंने कैसेट बेचने का काम भी शुरू किया और टेप रिकॉर्डर भी बेचने लगे। जिस दौरान वो कैसेट्स बेचा करते थे तभी उन्हें ये आईडिया आया कि क्यों न वो भी म्यूजिक रिकॉर्ड करके खुद की कैसेट्स बनाये।

क्या सरकार जिम्मेदार थी राज कपूर की मौत के पीछे

इसके बाद गुलशन कुमार ऐसी जगहों पर जाने लगे जहां पर भजन और पूजा-पाठ समारोह हुआ करते थे और वहां पर वो कैसेट रिकॉर्ड किया करते थे। उस समय आमतौर पर मार्किट में कैसेट करीब 30 रुपये में बिका करती थी तो गुलशन कुमारजी अपनी कैसेट महज 10 रुपये में बेचा करते थे। धीरे-धीरे उनका मुनाफा इतना बढ़ गया कि दिल्ली में उन्होंने अपना खुद का स्टूडियो भी बनवा लिया। जिसका नाम उन्होंने ‘Super Cassettes Industries’ रखा।

Gulshan Kumar

पूजा-पाठ के गाने करते हुए Gulshan Kumar के साथ और भी गायक जुड़ने लगे और नए-नए कैसेट बनाने का सिलसिला चलता रहा। अब गुलशन कुमारजी का स्टूडियो उस मक़ाम पर पहुँच गया था कि धार्मिक कैसेट्स के मार्केट में वो नंबर वन बन चुके थे। इसके बाद उन्होंने तय किया कि अब धार्मिक गानों से बॉलीवुड के गानों की तरफ अपना रुख किया जाए और इसके लिए वो दिल्ली से मुंबई आ गए।

Gulshan Kumar

मुंबई आने के बाद संगीत से जुडी हस्तियों से गुलशन कुमार ने मिलना-जुलना शुरू किया और तभी इनके संपर्क में अनुराधा पौडवाल, नदीम-श्रवण, कुमार सानू, उदित नारायण और सोनू निगम जैसे गायक। फिल्म इंडस्ट्री में इन्होंने शुरुवात की ‘लाल दुपट्टा मल मल का’ एल्बम से, जिस पर एक फिल्म भी बनाई गयी थी। इसके बाद ‘T-Series’ ने फिल्मों में गाने देना शुरू किया, जिसमें उन्हें अच्छी-खासी कामयाबी भी मिली।

Gulshan Kumar

इसके बाद फिल्म ‘क़यामत से क़यामत तक’, ‘Dil Hai Ke Manta Nahi’, ‘Aashiqui’, ‘Sadak’ और ‘Jeena Teri Gali Mein’ के गानों से ‘T-Series’ ने बॉलीवुड म्यूजिक की परिभाषा ही बदलकर रख दी। फिल्म आशिकी के बाद तो गुलशन कुमार के साथ नदीम-श्रवण के संगीत को बेमिसाल मान लिया गया।

ऐसा माना जाने लगा कि अगर फिल्म सफल करनी है तो गुलशन कुमारजी और नदीम-श्रवण की टीम बिलकुल सही रहेगी। माहौल ऐसा था कि बॉलीवुड इंडस्ट्री में करीब 65 प्रतिशत का मार्किट शेयर टी सीरीज के पास था। इसी वजह से ज्यादा से ज्यादा निर्माता चाहते थे कि उनके गानों को सिर्फ और सिर्फ T-Series ही खरीदें।

Gulshan Kumar

फिल्म आशिकी के गानों से बहुत ज्यादा चर्चा में आने वाले संगीतकार नदीम-श्रवण का इसके बाद एक एल्बम निकला जिसका नाम था ‘हाय जिंदगी’। इस एल्बम में खुद नदीम ने 4 गाने गाये थे और उन्होंने अपने दोस्त Gulshan Kumar से अपनी इस एल्बम को प्रमोट करने के लिए कहा था। सफलता की शुरुवात से साथ में रहे नदीम-श्रवण की दोस्ती की खातिर गुलशन कुमारजी ने उनके इस एल्बम को प्रमोट करने के लिए हामी भर दी।

Real Vijay Dandekar Ki Kahani – मुंबई पुलिस अफसर विजय दांडेकर के साथ हुई थी ये सच्ची घटना 

नदीम, जिन्होंने इस एल्बम के लिए 4 गाने खुद गाये थे, वो संगीतकार तो अच्छे थे, मगर गायक इतने अच्छे नहीं थे। यही कारण है कि गुलशन कुमारजी के प्रमोट करने बावजूद उनका ये एल्बम पीट गया। इसके बावजूद नदीम ने एक और गाना गाया और इस गाने को भी गुलशन कुमार को प्रमोट करने के लिए कहा।

Gulshan Kumar

इस बार Gulshan Kumar ने इस गाने को प्रमोट करने से साफ़ इनकार कर दिया और साफ़-साफ़ कह दिया कि ये गाने इतने अच्छे नहीं है और वो इन्हें प्रमोट नहीं कर सकते है।

बस इसी कारणवश इन दोनों के बीच में तनाव बढ़ने लगे। इधर नदीम-श्रवण ने दूसरी कम्पनी के साथ काम करना शुरू कर दिया और गुलशन कुमार का मार्केट शेयर 65 प्रतिशत होने की वजह से संगीतकारों और गायकों की कोई कमी नहीं खली और उन्होंने भी नए संगीतकारों और गायकों के साथ काम करना शुरू कर दिया।

ये बात साल 1996 के समय की है तब बॉलीवुड कहें या पूरी फिल्म इंडस्ट्री के कई लोग अंडरवर्ल्ड के दबाव में आकर काम किया करते थे। अंडरवर्ल्ड द्वारा कई बड़े सितारों से या निर्माताओं से जबरन पैसे वसूली किया करते थे।

Gulshan Kumar को भी ऐसे ही एक बार फ़ोन आया उनसे पैसे मांगे गए। पहली दफा था और गुलशन कुमार अपने व्यवसाय में रूकावट नहीं चाहते थे इसीलिए उन्होंने अंडरवर्ल्ड के दबाव में आकर पैसे दे दिए थे, जो कि कहा जाता है करोड़ों में थी।

Gulshan Kumar

नदीम-श्रवण की जोड़ी जो Gulshan Kumar से अलग हो चुके थे, उनमें से नदीम ने अपने अंडरवर्ल्ड के दोस्तों से बात करना शुरू कर दिया और उनसे कहने लगे कि जिन फिल्मों में हम गाने देते है गुलशन कुमार उन गानों को प्रमोट ही नहीं कर रहे है और यहां तक कि गुलशन कुमार ने हमें काम देने से भी मना कर दिया है।

नदीम ने ये सारी बातें अपने Underworld दोस्त अबू सलेम और अनीस इब्राहिम (दावूद इब्राहिम का छोटा भाई) से कही। इसके बाद अबू सलेम ने गुलशन कुमार को फ़ोन करके धमकी दी थी कि अगर अपनी सलामती चाहते हो तो 10 करोड़ दो।

इस बार फ़ोन आने पर गुलशन कुमार ने ये सारी बातें अपने छोटे भाई किशन कुमार से कही और बताया कि उन्हें अंडरवर्ल्ड से धमकी वाले फ़ोन आ रहे है।

किशन कुमार ने उन्हें पुलिस में शिकायत दर्ज करने की सलाह दी, मगर गुलशन कुमारजी ने इसके लिए ये कहकर मना कर दिया कि अगर उन्होंने ऐसा किया तो वो सीधे-सीधे अंडरवर्ल्ड के दुश्मन बन जाएंगे और आगे व्यापार में दिकत्ते आने लगेगी। इसी वजह से गुलशन कुमारजी ने पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं की।

Gulshan Kumar

दो बार फ़ोन करने के बावजूद जब Abu Salem के पास वसूली के पैसे नहीं पहुंचे तब तीसरी बार 8 अगस्त के दिन अबू सलेम ने गुलशन कुमार को फ़ोन किया। उस दिन उनके साथ उनके भाई किशन कुमार भी मौजूद थे।

अबू सलेम ने गुलशन कुमार से कहा कि ‘लगता है तुम हमारी बात को सीरियस नहीं ले रहे हो। तुम्हें अपनी जान की परवाह नहीं है।’ और ये भी कहा कि ‘देखों, ये सारी चीजें यहीं की यहीं रह जाएगी, सलामत रहना है तो 10 करोड़ भिजवा दो।’

अबू सलेम को उम्मीद थी कि इस बार तो गुलशन कुमार दबाव में आ ही जाएंगे। लेकिन, हुआ इसका बिलकुल उल्टा। अबू सलेम की धमकी का जवाब देते हुए गुलशन कुमार ने कहा कि ‘तुम्हें पैसा दूं, इससे अच्छा तो मैं गरीबों को खाना खिलाऊं। अपने भंडारों में पैसा दूं, मंदिर बनवाऊं, लोगों की मदद करूं। मैं तुम्हें पैसा नहीं देने वाला हूं।’

Gulshan Kumar

सब जानते है है कि गुलशन कुमार भगवान के भक्त है। वो हर रोज मंदिर जाना पसंद करते थे। उनके घर के करीब जीतेश्वर शंकर मंदिर में तो वो रोज जाया करते थे। जब भी गुलशन कुमारजी मुंबई में हुआ करते थे तो सुबह और शाम दिन में दो बार वो इस मंदिर में जाया करते थे।

इस मंदिर को छोटे से बड़े मंदिर में तब्दील करने में गुलशन कुमार की आस्था जिम्मेदार थी। 12 अगस्त की सुबह हर रोज की तरह गुलशन कुमार अपने घर से मंदिर की तरफ निकले थे।

मंदिर में दर्शन के लिए वो हमेशा T-Series के मालिक के हैसियत से नहीं बल्कि एक आम आदमी की तरह जाया करते थे और इसी वजह से वो अपने साथ कभी भी अपने बॉडीगार्ड नहीं लेकर जाया करते थे। सुबह के 10 बजकर 10 मिनिट पर गुलशन कुमारजी ने मंदिर में अपनी पूजा ख़त्म करके वापस घर की तरफ बढ़ते है।

Gulshan Kumar

जैसे ही गुलशन कुमार मंदिर से बाहर आते है तो देखते है कि तीन आदमी हाथ में गन लिए खड़े हुए है। गुलशन कुमार कहते है कि ‘ये क्या कर रहे हो?’ तो उनमें से एक आदमी कहता है कि ‘यहां मंदिर में बहुत पूजा हो गयी, अब ऊपर जाकर पूजा करना।’

इसके बाद तीनों आदमियों ने एक के बाद एक 16 गोलियां गुलशन कुमारजी के शरीर पर चलायी और उन्हें खून से लतपत कर दिया। उनके मरने तक शूटर ने अपना फ़ोन चालू रखा था ताकि गुलशन कुमार की चीख अबू सलेम सुन सके।

गुलशन कुमार की मौत के बाद उनके बेटे Bhushan Kumar के कम उम्र का होने की वजह से उनके भाई किशन कुमार ने सारे बिज़नेस को बड़ी ईमानदारी से चलाया और भूषण कुमार के बड़े होने पर उनके पिता की सारी सम्पति समेत सारा बिज़नेस उन्हें वापस कर दिया।

Gulshan Kumar

आज T-Series सिर्फ म्यूजिक में ही नहीं बल्कि फिल्म प्रोडक्शन में भी एक बड़ा नाम रखते है। इंटरनेट की दुनिया में यूट्यूब के माध्यम से आज T-Series दुनिया का नंबर वन चैनल है और बॉलीवुड की नंबर वन कंपनी भी है।

जब जया बच्चन को डॉक्टरों ने अमिताभ से आखिरी बार मिल लेने को कहा

दोस्तों, एक जूस की दूकान से दुनिया की नंबर वन म्यूजिक इंडस्ट्री कंपनी खड़ी की जा सकती है ये गुलशन कुमारजी ने बखूबी साबित किया है। आपका क्या कहना है कृपया कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताइयेगा और जानकारी अच्छी लगे तो कृपया इसे लाइक और शेयर जरूर कीजिएगा।

दुनिया की कुछ ऐसी अजब गजब रोचक जानकारी जो शायद ही आपको पता होगी | Fact from around the world that you wont believe.

अपनी ही शादी में बेहोश हो गए थे ऋषि कपूर और नीतू सिंह

चाय ना मिलने पर अभिनेता अमजद खान ने कर दी थी ऐसी हरकत

आखिर क्यों किशोर कुमार आधा सिर मुंडवाकर पहुंचे थे शूटिंग पर

Leave a Reply